क्या आप जानते हैं घोड़ों के बारे में ये 20 इंट्रेस्टिंग फैक्ट्स?

अंग्रेजी में नर घोड़े को ‘स्टेलियन’ और मादा घोड़ी को ‘मारे’ कहते हैं। युवा घोड़े को ‘बछेड़ा’ और युवा घोड़ी को ‘फिल्ली’ कहते हैं। छोटे घोड़े को ‘पनीज़’ कहते हैं।

  • घोडो के लगभग 300 से अधिक नस्लें है। अरबी नस्ल को घोड़ों का सबसे पुराना जीवित नस्ल माना जाता है, लगभग 4500 साल पुराने दूसरो घोडो के बजाय अरबी घोडो की रसीली में एक बड्डी कम है।
  • घोड़े केवल नाक से सास लेते हैं मुंह से नहीं इसलिए रेस की पैक्टिस करते समय हम अक्सर कहा जाता है कि घोड़े की तरह मुहां बंद करके सास लो लो।
  • हमारे नाखूनों की तरह घोडो का खुर भी सेंसिटिव होता है। जब घोड़ा दौड़ता है तो उसके चारों में खुर एक साथ जमीन से उठते हैं
  • घोड़ों के लिए उल्टी करना असंभव है। ये इंसानों की तरह डकार भी नहीं मार सकता है इसलिए घोड़ों का मौत का सबसे बड़ा कारण पेट का दर्द है।
  • घोडो पर लिखी हुई पहली पुस्तक ‘शालिहोत्र’ है ये पुस्तक शालीभवत ऋषि के हाथों में महाभारत काल से भी पहले लिखी गई थी।
  • यदि घोड़े का कान का पिछला हिस्सा ठंडा लग रहा है तो समझ लेना घोड़े को ठंड लग रहा है। घोड़े पैदा होने के कुछ ही घंटे बाद ठीक चलने लगते हैं
  • अगर ऊँचे जम्प की रिकॉर्डेर्ड पर नजर डाली तो 5 वें फ़ेब, 1 9 48 को चिली देश में ‘हाउस’ नाम का घोड़ा 8 फुट 1.25 इंच ऊपर कूदा था। इसके घुड़सवार का नाम है ‘कप्तान अल्बर्टो लेरागुइबेल’
  • घोड़े के दाँत बहुत बड़े होते हैं। दाँत उसके दिमाग के मुकाबले ज्यादा जगह घेरते हैं घोड़े की उम्र और उसकी कंकल की पहचान (घोड़ा है या घोड़ी) उसके दाँतों को गिनकर ही पता लगता है। घोड़े के दिमाग का वजन करीब 623 ग्राम होता है जो इंसानों के मन का लगभग आधा है।
  • घोड़े की आँखों पर इस तरह से होता है कि वह 360 डिग्री तक देख सकते हैं। इनकी आँखों का ऊपरी भाग नजदीक की वस्तुएं और निचले हिस्से दूर की वस्तुएं देखती हैं। लेकिन एक बात ये भी है कि घोड़े इंसानों की तरह फोकस नहीं कर सकते हैं
  • घोड़े खड़े-खड़े सोते हैं क्योकि उनके अगले और पिछले पैर की बनावट इस तरह से होता है कि वह आराम करते हुए भी नहीं गिरगे। दूसरी बात, सोते तो ये लेट कर भी है लेकिन लेट लेना से उनके पेट के अंगों पर दबाव पड़ता है जो उनके लिए हानिकारक है।
  • वैसे तो घोड़ों की स्पीड 40 से 48 किमी / घं है। लेकिन सबसे तीव्र घोड़े की गति 70.76 किमी / घं मापा गया है। अमेरिकन क्वाटर नस्ल का घोड़ा सबसे तेज़ दौड़ता है
  • ओलंपिक में भाग लेने वाले घोड़े बिजनेस क्लास में सफर करते हैं। इनके पास खुद के पासपोर्ट है। जब नर घोड़ा और मादा जेब्रा सेक्स करता है तो ‘जेब्रोइड्स’ पैदा होता है।
  • फुट और इंच में मापने की बजाय घोड़े की लंबाई को हाथों में मापा जाता है। एक हाथ 4 इंच के बराबर होता है। सबसे ऊंची घोड़ा ‘सैंपसन’ की लंबाई 21.2 हाथ का बराबर है। सबसे छोटा घोड़ा ‘आइंस्टीन’ जो केवल 3.5 हाथ का बराबर है
  • लंदन में आज भी ट्रैफिक उसी गति से चलता है जैसे 100 साल पहले घोड़ा गाड़ी के समय में चलता था। आज के ब्रेटिश सेना के पास तंको की बजाय घोड़ों अधिक संख्या में है।
  • एक घोड़ा अधिक से अधिक 14.9 हार्स पावर ऊर्जा का उत्पादन हो सकता है। WW1 यानी प्रथम विश्वयुद्ध में 8 करोड़ घोड़ों मारे गए थे। जो बच गए उन्हें किसी और काम के लिए असफ़ीट घोषित किया गया था बेल्जियम में कैसीघर में भेजा गया था।
  • कई फुटेज में घोड़ा को मुस्कुराते हुए देखा गया है। वास्तव में, ऐसा करने से घोड़ों की सूँघने की शक्ति बढ़ जाती है घोड़े भी इंसानो की तरह अपनी मूड को बताते हुए तरह-तरह के चेहरे बनाते हैं।
  • 1923 की घोड़ों का रेस चल रहा है घुड़सवार को अचानक दिल का दौरा पड़ा और मौत हो गई लेकिन घोड़ा नहीं रुका और रेस जीत गई। इसी के साथ ‘फ्रैंक हेस’ दुनिया का अकेला ऐसा घुड़सावार बन गया, जिसने मरने के बाद रेस जीती।
  • घोड़े के कान में 16 मस्स्पेशियाँ हैं जो उन्हें 180 डिग्री तक घूमने में मदद करता है। घोड़े बहुत कम से ज्यादा आवाज सुन सकता है, 14 हर्ट्ज से लेकर 25 मेगाहर्टज तक। (आदमी 20 हर्ट्ज से 20 किलोग्राम तक सुन सकता है)।
  • पिछले कई वर्षों में यूरोप में सूअर, घोड़ों और कीड़ों को भी अपराधों की सजा मिल गई है। घोड़ों की उम्र यही कोई 25 साल होनी चाहिए। लेकिन अगर रिकार्ड की बात है तो 1822 में ‘ओल्ड बिली’ नाम का घरेलू घोड़ा 62 साल का होकर मर गया था।

Add a Comment