खास रिपोर्ट : 2002 में रेप और 2017 में जेल पढ़ें राम रहीम की पूरी कुण्डली

डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम के खिलाफ 2002 में एक साध्वी से यौन शोषण का मामला दर्ज किया. अब 2017 में राम रहीम को मामले में दोषी करार देते हुए गुनहगार घोषित कर दिया है. कोर्ट अब 28 अगस्त को राम रहीम की सजा पर सुनवाई करेगा. फैसला आते ही राम रहीम को कोर्ट से सीधे जेल ले जाया गया. जानें 2002 में केस दर्ज होने के बाद 2017 तक की राम रहीम की पूरी केस डायरी.

अप्रैल 2002- राम रहीम की अनुयायी एक साध्वी ने पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट और तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को एक शिकायत भेजी थी. साध्वी ने शिकायत में राम रहीम पर यौन शोषण का आरोप लगाया था.

मई 2002- शिकायती पत्र को तस्दीक करने की जांच का जिम्मा सिरसा के सेशन जज को सौंपा गया.

दिसंबर 2002- शिकायत सही पाए जाने के बाद राम रहीम के खिलाफ धारा 376, 506 और 509 के तहत केस दर्ज किया गया था.

दिसंबर 2003- इस केस की जांच सीबीआई को सौंपी गई. जांच अधिकारी सतीश डागर ने केस की जांच शुरू की और साल 2005-2006 में उस साध्वी को ढूंढ निकाला, जिसका यौन शोषण हुआ था.

जुलाई 2007- सीबीआई ने केस की जांच पूरी कर अंबाला सीबीआई कोर्ट में चार्जशीट दाखिल की. अंबाला से केस की सुनवाई पंचकूला शिफ्ट कर दी गई. चार्जशीट के मुताबिक, डेरे में 1999 और 2001 में कुछ और साध्वियों का भी यौन शोषण हुआ, लेकिन वे मिल नहीं सकीं.

अगस्त 2008- केस का ट्रायल शुरू हुआ और डेरा प्रमुख राम रहीम के खिलाफ आरोप तय किए गए.

साल 2011 से 2016- केस का ट्रायल चला. डेरा प्रमुख राम रहीम की ओर से वकील लगातार जिरह करते नजर आए.

जुलाई 2016- केस की सुनवाई के दौरान 52 गवाह पेश किए गए, इनमें 15 प्रॉसिक्यूशन और 37 डिफेंस के थे.

इसे भी पढ़ें: इस चिट्ठी से रेप केस में फंसे राम रहीम, पढ़ें क्या लिखा था इसमें

जून 2017- कोर्ट ने डेरा प्रमुख के विदेश जाने पर रोक लगा दी.

25 जुलाई 2017- सीबीआई कोर्ट ने इस मामले में हर रोज सुनवाई करने के निर्देश दिए ताकि जल्द फैसला सुनाया जा सके.

17 अगस्त 2017- दोनों पक्षों की ओर से चल रही जिरह खत्म हुई और फैसले के लिए 25 अगस्त की तारीख तय की गई.