झकझोर कर रख देगा चकाचौंध मुंबई शहर का ये काला सच…

मुंबई जितनी दिखने में रंगीन और चकाचौंध है। उसकी रात उतनी ही काली बनी हुई है। हर किसी की मुंबई जाने की चाह जरूर होती है। क्योंकि लोगों को लगता है वो शहर सिर्फ फिल्मों के लिए बना हुआ है। और वहां रहने वालों की जिंदगी बहुत हसीन होती होगी। लेकिन वो सिर्फ टीवी में दिखता है, बल्कि मुंबई जैसे सबसे मशहुर शहर की हकीकत जानकर आप भी चौंक जाओगे।

मुंबई का कमाठीपुरा इलाका एशिया के सबसे बड़े वेश्यावृत्ति केंद्र में एक है। कमाठीपुरा के पास कई रेड लाइट एरिया है। लेकिन कमाठीपुरा सबसे मशहुर इलाका है। यहां रात हो या दिन हर वक्त लड़कियां दरवाजे, खिड़कियों में झांकती हुई ग्राहाको का इंजार करती रहती है। कई वर्षो पहले इस इलाके में करीब 50 हजार वेश्यावृत्ति काम करती थी। लेकिन धीरे-धीरे इसमे कमी होने लगी।

दूर से खूबसूरत दिखने वाल इस शहर में कई काले सच छिपे है। ये पूरा इलाका 16 गलियों में बना है। इन गलियो से निकलने वाले लोग इस इलाके का बखूबी से हाल जान सकते है। यहां के करीब 200 कमरो में 50 हजार महिलाएं वेश्यावृत्ति का काम करती है।

दूसरे शहरे से कई लड़कियों को लाकर उनको वेश्यावृत्ती के गड्डे में धकेलकर उनकी जिंदगी खत्म कर दी जाती है। बताया जाता है कि वेस्ट बंगाल की महिलाओं को बहला फुसला कर मुंबई में लाया जाता है। जहां उन्हें जबरन जिस्मफरोसी करने को मजबूर किया जाता है। अगर वो मना करती है तो उनके नशीले इंजेक्शन लगाये जाते है।

वीडियो में देखिये चमकती मुबंई में छिपा है ये काला सच

हालांकि सरकार ने सेक्स वर्कर के वजह से बदनाम मुंबई में योनशोषण पर प्रतिबंध भी लगा दिया था। लेकिन फिर भी यहां पर लोग चोरी चुपकर ये काम करते है। छोटी हो या बड़ी हर लड़की वहां जिस्म बेचकर पैसे कमाती है। बताया जा रहा है कि ये कोमाठीपुर की बदनाम गलियों को सुधारने में कोशिश की जा रही है। इस जगह से ये धंधा खत्म कर नौकरी पेशा वाले लोगों के रहने की आशंका जाताई जा रही है।