ये शादी चर्चा में है, इस जोड़ी की तस्वीरें देख आप भी मानेंगे कि प्यार अंधा होता है। समय निकाल कर ये तस्वीरे जरुर देखे

ऐसा कहा जाता है कि प्यार किसी सरहद को नहीं देखता, इस बात की तस्दीक 16 अगस्त को राजस्थान के श्रीकरणपुर में विनोद के साथ मैलानी की शादी ने कर दी। श्रीकरणपुर के विनोद ने जब जर्मनी की मैम मैलानी से फेरे लिए तो शहरभर के लोग इस शादी को देखने के लिए चले आए।

पढ़ाई के दौरान जर्मनी में हुआ प्यार – विनोद इलाहाबाद में थिसिस डिप्लोमा के बाद 2006 में रिसर्च के लिए जर्मनी गए थे। विनोद ने बताया कि 2006 में यूनिवर्सिटी के एक कार्यक्रम में उसकी मुलाकात टीचर मैलानी से हुई। मैलानी को अंग्रेजी और उसे जर्मन सीखनी थी, इसी सिलसिले मे दोनों में मुलाकातें हुईं और फिर दोनों काफी वक्त साथ बिताने लगे।

2010 में किया प्यार का इजहार – कई साल तक साथ रहने के बाद 2010 में दोनों ने शादी का फैसला किया लेकिन अलग मुल्क और मजहब के चलते दोनों ने अपने परिवारों से पहले बात कर लेने की सोची। दोनों ने अपने परिवारों से बात की और परिजनों की हां के बाद मैलानी 10 अगस्त को विनोद तथा अपने दोस्तों के साथ श्रीकरणपुर पहुंची। 16 अगस्त को दोनों ने शादी की। सितंबर में दोनों जर्मनी लौट जाएंगे।

भारतीयता के रंग में रंगी मैलानी – परिवार खुश 10 अगस्त को श्रीकरणपुर में पहुंचने के बाद से ही मैलानी भारतीय रंग में रंगे नजर आ रही हैं। मैलानी ने किसी भारतीय लड़की की तरह की मेहंदी, रतीजोगा की रस्में कीं फिर हिन्दू रीति-रिवाजों से शादी की। विनोद के परिवार के लोग भी अपनी विदेशी बहू से काफी खुश हैं। परिजनों ने बताया कि मैलानी हिंदी सीख रही हैं। वो मेहमानों का नमस्ते करके अभिवादन करती हैं और हर रोज योग भी करती हैं।