पहाड़ों पर बसे हिन्दू देवियों के 10 प्रसिद्ध मंदिर

0
124

इस लेख में हम आपके देवी के 10 ऐसे फेमस मंदिरों के बारे में बताने जा रहे हैं, जो पहाड़ों पर स्थापित हैं। साथ ही जानिए हर मंदिर से जुड़ी खास बातें..

1. कनक दुर्गा मंदिर, आंध्र प्रदेश (Kanaka durga temple, Vijayawada, Andhra pradesh)Kanaka durga temple, Vijayawada, Andhra pradesh Story& History in Hindi



यहां पहाड़ी को लेकर मान्यता है कि अर्जुन ने यहीं पर भगवान शिव की तपस्या की थी और उनसे पाशुपतास्त्र प्राप्त किया था।

कहते है इस मंदिर की देवी प्रतिमा स्वयं प्रकट हुई थी, इसलिए इसे बहुत ख़ास और शक्तिशाली माना जाता है।

2. तारा देवी मंदिर, हिमाचल प्रदेश (Tara devi temple, Shimla, Himachal pradesh)

कहा जाता है कि यह मंदिर लगभग 250 साल पहले बनाया गया था।

यहां स्थापित देवी की मूर्ति को लेकर मान्यता है की तारा देवी की मूर्ति प. बंगाल से लाई गई थी।

3. चामुंडेश्वरी मंदिर, कर्नाटक (Chamundeshwari temple, Karnataka)Chamundeshwari temple, Karnataka Story& History in Hindi

मान्यताओं के अनुसार, इस मंदिर की स्थापना 12वीं सदी में की गई थी।

मंदिर परिसर में राक्षस महिषासुर की एक 16 फुट ऊंची प्रतिमा स्थापित है। जो यहां के मुख्य आकर्षणों में से एक है।

4. मनसा देवी मंदिर, उत्तराखंड (Mansa devi temple, Haridwar, Uttarakhand)Mansa devi temple, Haridwar, Uttarakhand Story & History in Hindi

मान्यताओं के अनुसार मनसा देवी की उत्पत्ति ऋषि कश्यप के मन से हुई थी।

यहां स्थापित पेड़ पर धागा बांधने से मनोकामना जरूर पूरी होती है। जिसके बाद पेड़ से एक धागा खोलने की परम्परा है।

5. अधर देवी मंदिर, राजस्थान (Adhar devi temple, Mount abu, Rajasthan)Adhar devi temple, Mount abu, Rajasthan Story & History in Hindi

अधर देवी मंदिर तक पहुंचने के लिए भक्तों को लगभग 365 सीढ़ियां चढ़नी पड़ती है।

यहां मान्यता है कि अगर कोई भक्त पूरी श्रद्धा के साथ देवी की पूजा करता है तो यहां उसे बादलों में देवी की छवि दिखती है।

6. बम्लेश्वरी देवी मंदिर, छत्तीसगढ़ (Bamleshwari devi temple, Dongargarh, Chhattisgarh)Bamleshwari devi temple, Dongargarh, Chhattisgarh Story & History in Hindi

इस जगह का नाम डोंग और गढ़ शब्दों को मिलाकर बना है। डोंग का अर्थ होता है पर्वत और गढ़ का मतलब होता है क्षेत्र।

यह मंदिर छत्तीसगढ़ राज्य के डोंगरगढ़ में 1600 फ़ीट ऊंची पहाड़ी पर है। जहां पहुंचने के लिए लगभग 1100 सीढ़ियां है।

7. सप्तश्रृंगी देवी मंदिर, महाराष्ट्र (Saptashrungi devi temple, Nasik, Maharashtra)Saptashrungi devi temple, Nasik, Maharashtra Story & History in Hindi

यहां की देवी मूर्ती लगभग 10 फ़ीट ऊंची है। देवी मूर्ति के 18 हाथ है. जिनसे वे अलग-अलग अस्त्र-शस्त्र पकडे हुए है।

यह मंदिर छोटे-बड़े सात पर्वतों से घिरा हुआ है इसलिए यहां की देवी को सप्तश्रृंगी यानी सात पर्वतों की देवी कहा जाता है।

8. तारा तारिणी मंदिर, उड़ीसा (Tara Tarini temple, Odisha)Tara Tarini temple, Odisha Story & History in Hindi

यह देवी मंदिर अपनेआप में बहुत ख़ास है क्योंकि यह मंदिर दो जुड़वां देवियों तारा और तारिणी को समर्पित है।

यह मंदिर देवी सटी के 4 शक्ति पीठों के मध्य में स्थापित है, यानि इस मंदिर की चारों दिशा में एक एक शक्ति पीठ है।

9. वैष्णो देवी मंदिर, जम्मू-कश्मीर (Vaishno devi temple, Katra, Jammu and Kashmir)Vaishno devi temple, Katra, Jammu and Kashmir Story & History in Hindi

मंदिर के ग्राभ गृह तक जाने के लिए एक प्राचीन गुफा थी, जिसे अब बंद करके दूसरा रास्ता बना दिया गया है।

मान्यता है की माता ने इसी प्राचीन गुफा में भैरव को अपने त्रिशूल से मारा था।

10. शारदा माता मंदिर, मध्यप्रदेश (Maa Sharda devi temple, Maihar, MP)Maa Sharda devi temple, Maihar, MP Story & History in Hindi

इसे देवी के 51 शक्ति पीठों में से एक माना जाता है। कहते है की यहां पर देवी सती का हार गिरा था।

मैहर वाली माता मंदिर मध्यप्रदेश राज्य की त्रिकुटा पहाड़ी पर बसा है।

YOU MAY LIKE
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here