महिला ने बेटे के दोस्त से बनाए संबंध और खून से सन गया पूरा कमरा

ट्रिपल मर्डर मामले में मुख्य आरोपी पूनम उर्फ पक्का को सजा दिलाने के लिए पुलिस ने अदालत में 200 पेज की दो चार्जशीट पेश की। इसमें सबूत के तौर पर 40 गवाह, 12 मोबाइल की 600 से ज्यादा कॉल डिटेल, जब्त गाड़ी, खून से सने पकड़े शामिल हैं। पुलिस का दावा है कि इन सबूतों के आधार पर आरोपी को सजा जरूर मिलेगी।

 

Bhopal के सबसे चर्चित ट्रिपल मर्डर मामले में कैंट पुलिस ने 90 दिन से पहले ही चार्जशीट पेश कर दी है। इस मामले की मुख्य आरोपी पक्का उर्फ पूनम को सजा दिलाने के लिए 70 दिन में पुलिस ने कई सबूत जुटा लिए। गुरुवार को कैंट टीआई आशीष सप्रे अदालत पहुंचे। उन्होंने जेएमएफसी केके मिश्रा की कोर्ट में दो अलग-अलग 180 से 200 पेज की लोकेश और ऋतिक की हत्याकांड मामले में चार्जशीट पेश की । इसमें उन तमाम सबूतों का जिक्र है, जो अब तक जुटाए हैं। इसी आधार पर पुलिस आरोपी को सजा दिलाने का दावा कर रही है। अब पुलिस अदालत में अपने सबूत और गवाहों को पेश करेगी।

 

अदालत में पेश कीचार्जशीट के साथ मृतकों की पीएम रिपोर्ट के अलावा एफएसएल रिपोर्ट भी पेश की गई है। 3 बच्चों की हत्या कैसे की गई और फिर कब जलाया गया। यह सभी जानकारी रिपोर्ट में है। पुलिस ने डॉक्टर, मृतक के परिजन और घटना स्थल के आसपास रहने वाले 40 लोगों को गवाह बनाया है।

पटेल नगर में 27 मई को ऋतिक का जली हुई अवस्था में शव मिला था। इसके दो दिन बाद ही नेगमा में लोकेश का शव मिला। पीएम रिपोर्ट से स्पष्ट हुआ कि दोनों की हत्या कर उन्हें जलाया गया है। इन दोनों मामले की विवेचना पूरी हो चुकी है। वहीं तीसरे किशोर हेमंत की हत्या मामले में अभी विवेचना चल रही है। टीआई का कहना है कि इसमें अभी कई सारे सबूत जुटाने हैं।

पुलिस ने इस हत्याकांड मामले में 12 मोबाइल कॉल डिटेल निकाली है। इसमें 3 आरोपी, 3 मृतक और उसके नजदीकियों के कॉल की जानकारी है। टीआई ने बताया आरोपियों की जिस दिन गिरफ्तारी हुई, उससे 15 दिन पहले की कॉल डिटेल निकाली गई है। कुछ आरोपियों ने एक ही मोबाइल पर कई बार बात की। इसके अलावा किसी ने एक बार बात कर मोबाइल बंद कर दिया। आरोपी ने हत्या के पूर्व किन-किन लोगों से बात की, इसमें सारे सबूत जुटाए हैं। इन मोबाइल पर 600 से ज्यादा बार कॉलिंग हुई है। हालांकि इसको लेकर पुलिस पर भी सवाल उठ चुके हैं। जब हत्याकांड की मुख्य आरोपी पक्का को गिरफ्तार किया गया था, तब उसकी कॉल डिटेल नहीं निकल पा रही थी। इस मामले पुलिस का कहना था कि सर्वर डाउन होने से कॉल डिटेल नहीं निकल पा रही है।

 

फिलहाल पुलिस ने सिर्फ आरोपी पूनम उर्फ पक्का के खिलाफ चार्जशीट पेश की है। वहीं दो अन्य नाबालिग के संबंध में बाल न्यायालय में 16 अगस्त को चार्जशीट पेश की जाएगी। इसके लिए भी तैयारी की जा रही है।

18 मई 2017 को सिंचाई विभाग के ऑफिस अधीक्षक अंतर सिंह मीना के बेटे हेमंत का अपहरण हो गया था। लेकिन उसके दोस्त लोकेश, ऋतिक का शव मिलने के बाद पुलिस को पता चला कि हेमंत की भी हत्या की गई है। इसमें जब छानबीन की गई तो पूनम दुबे और 2 अन्य नाबालिग को पुलिस ने आरोपी माना। हत्या के पीछे वजह हेमंत रुपए लेना थी। हत्या की दूसरी वजह इसमें हेमंत और पूनम के अवैध संबंध भी थे जो पूनम के बेटे को अखर रहे थे। बाद में हेमंत का आरोपियों ने अपहरण कर लिया था, इसके बाद हत्या कर दी। लोकेश और ऋतिक ने जब यह सब देख लिया तो उसे भी रास्ते से हटा दिया गया था।

Add a Comment