चचेरे भाई के साथ संबंध बनाती थी पत्नी, रोकने के लिए बन गया ‘आतंकवादी’

यूपी एटीएस और जीआरपी ने संयुक्त ऑपरेशन कर उत्तर प्रदेश में मऊ रेलवे स्टेशन को बम से उड़ने की धमकी देने वाले शख्स को गिरफ्तार किया है। शख्स ने 15 अगस्त से दो दिन पहले मऊ रेलवे स्टेशन को बम से उड़ाने की धमकी दी थी। जिसके बाद से ही रेलवे के साथ साथ आईबी की भी नींद हराम हो गयी थी की कहीं कोई आतंकी संगठन अचानक से उत्तर प्रदेश में सक्रिय तो नहीं हो गया हैं।

चचेरे भाई के साथ संबंध

लेकिन जब एसटीएफ और जीआरपी ने मामले का खुलासा किया तो कुछ और ही सच सामने आया। पकड़े गए आरोपी ने पुलिस के सामने कबूल किया हैं कि उसने अपने चचेरे भाई को फंसाने के लिए उसकी आईडी से एक सि‍म खरीदा और लखनऊ जीआरपी के एडि‍शनल डीजीपी को कॉल कर धमकी दी।

मेरी पत्नी को ब्लैकमेल कर बनाता था संबंध पुलिस की गिरफ्त में आये राजेश पटेल और अरविंद चचेरे भाई हैं। धमकी देने वाले राजेश ने बताया, पि‍छले दो साल से अरविंद ने मेरी वैवाहिक जीवन खराब करके रख दिया था। शुरू में वह मेरे सामने ही मेरी पत्नी को अंडरगार्मेंट्स गिफ्ट देता था। धीरे-धीरे अफेयर शुरू हो गया और दोनों के बीच अवैध संबध बन गए। मैंने इसका व‍िरोध किया तो पत्नी मान गई और दोबार ऐसा न करने की बात कही, लेकिन अरविंद उसे ब्लैकमेल करने लगा। इसके बाद मेरी पत्नी मजबूर होकर उससे र‍िलेशन बनाती रही।

पत्नी को इस नर्क से न‍िकालने के लिए एक साल पहले मैंने अरविंद को सबक सिखाने का प्लान बनाया। वह फर्जी सिम बेचता था, इसकी वजह से वह एक बार जेल भी जा चुका है। मैंने उसकी आईडी पर ही एक सिम उसी से खरीदा। मैंने सोचा था कि अगर उसकी आईडी के सिम से कुछ गलत काम करता हूं तो वही पकड़ा जाएगा। मैंने इंटरनेट से लखनऊ जीआरपी के एडि‍शनल डीजीपी का नंबर निकाला और उर्दू के शब्दों को इस्तेमाल करते हुए मऊ रेलवे स्टेशन को बम से उड़ाने की धमकी दी। फोन पर मैंने कहा, ”हैलो, सलाम वालेकुम… दो दिन बाद मऊ स्टेशन को उड़ा दूंगा… रोक सको तो रोक लो।”