क्या ये फ़्लू से ज़्यादा ख़तरनाक है कोरोना वायरस?

हम कोरोना वायरस मृत्यु दर की तुलना फ़्लू से नहीं कर सकते हैं क्योंकि हल्के बुखार के लक्षण होने पर लोग डॉक्टर के पास नहीं जाते हैं. ऐसे में हम ये नहीं जानते हैं कि हर साल फ़्लू किसी अन्य नए वायरस के कितने मामले सामने आते हैं.

लेकिन फ़्लू की वजह से आज भी सर्दियों में ब्रिटेन में लोगों की मौत होती है. लेकिन जैसे-जैसे आंकड़े सामने आ रहे हैं, वैज्ञानिक ये स्पष्ट करने में सक्षम हो पाएंगे कि ब्रिटेन में कोरोना वायरस फैलने की स्थिति में सबसे ज़्यादा जोख़िम में किस तरह के लोग होंगे.

विश्व स्वास्थ्य संगठन की ओर से एक सामान्य राय ये है कि आप हाथ धुलकर, खांसते और छींकते हुए लोगों से दूर रहकर और अपनी नाक, आँख और मुंह को छूने से बचकर आप सांस लेने से जुड़े सभी वायरसों से स्वयं को बचा सकते हैं.