कोरोना वायरस से कितना डरा हुआ है सुपर पावर अमरीका?

अपने अपार्टमेंट में बंद हो कर मैं अमरीका में कोरोना वायरस को लेकर बढ़ रहे पैनिक को महसूस कर रहा हूं.कोरोना वायरस का संक्रमण जितनी तेजी से फैला है उसको लेकर अमरीकी लोग भी डरे हुए हैं. दुनिया के सबसे ताकतवर देश के पास इस वायरस का कोई इलाज नहीं है.

इस वायरस के सामने अमरीका भी संघर्ष कर रहा है जिसको थोड़े समय पहले ही अमरीकी राष्ट्रपति ने ‘राजनीतिक छल’ कह कर खारिज कर दिया था. अमरीका को दुनिया के दूसरे हिस्सों में परफेक्ट मुल्क के तौर पर देखा जाता है, जहां हर कोई किसी भी कीमत पर आकर बस जाना चाहता है. लेकिन ये कुछ दिनों पहले की बात लग रही है. इन दिनों अमरीका की दूसरी ही तस्वीर उभरी है, कोरोना वायरस से अब तक 230 से ज़्यादा लोगों की मौत हो चुकी है.

और 18,500 से ज़्यादा लोग इसके संक्रमण में हैं. इस आंकड़े के बढ़ने की आशंका बनी हुई है. कई लोग इस बात पर अचरज में हैं कि दुनिया का सुपर पावर किस तरह से लाचार दिख रहा है.

अमरीका दुनिया का एक ऐसा देश है जो दुनिया के किसी भी कोने में, हर मुद्दे पर अपनी बात रखता है, फैसले लेता है.

इस देश के नेता भी अपने देश के सीमाओं से बाहर अपनी ताकत का प्रदर्शन करने से नहीं चूकते.

लेकिन कोरोना वायरस के सामने अमरीका आंतरिक तौर पर कमज़ोर साबित हुआ है.