जानिए वक्ष या स्तन से जुड़ी कुछ खास बातें

किशोरावस्था में लड़कों और लड़कियों दोनों के शरीर में हार्मोन के कारण कई बदलाव होते हैं. जहां लड़कों में दाढ़ी मूंछ आने लगती है तो वहीं लड़कियों में वक्ष विकसित होते हैं. देखिए वक्ष या स्तन से जुड़ी कुछ खास बातें.



केवल इंसानों में
मनुष्य एकलौता प्राइमेट है जिसमें महिलाओं के स्तन स्थाई होते हैं. इंसान को छोड़ कर दूसरे सभी प्राइमेट्स और स्तनधारी जीवों में एक भरा पूरा वक्ष केवल तभी होता है जिन दिनों मादा अपने बच्चों को दूध पिलाती है.

कैसे और किससे बने वक्ष
वक्ष का विकास शरीर में एस्ट्रोजन नाम के सेक्स हार्मोन और ग्रोथ हार्मोन के कारण होता है. वक्ष असल में कई जटिल ग्रंथियों और वसा वाले टिशू से मिलकर बना होता है. इसका औसत भार करीब आधा किलो तक हो सकता है और शरीर के कुल फैट का 4 से 5 फीसदी वक्ष में ही पाया जाता है.




जीवनदायिनी द्रव्य
वक्ष की ग्रंथियों से कई तरह से हार्मोन और तरल चीजों का स्राव होता है, जैसे कि कोलोस्ट्रम और दूध. इंसान का दूध गाय के दूध से मीठा होता है. कोलोस्ट्रम वह पीला, चिपचिपा पदार्थ होता है जो बच्चे के जन्म के बाद निकलता है और नवजात के लिए सर्वश्रेष्ठ आहार माना जाता है.

ब्रा की पढ़ाई
चीन में बाकायदा 'ब्रा स्टडीज' की पढ़ाई होती है और इसमें डिग्री ली जा सकती है. हांगकांग पॉलिटेक्निक यूनिवर्सिटी में एक पूरा विभाग है और उसकी अपनी लैब भी. ब्रा निर्माता कंपनी टॉप फॉर्म द्वारा स्थापित इस लैब में ब्रा से जुड़ा शोध और विकास कार्यक्रम चलता है.




जुड़वा नहीं
ज्यादातर महिलाओं में दोनों वक्षों का आकार समान नहीं होता. बिल्कुल वैसे ही जैसे एक हाथ दूसरे से बड़ा और एक पैर भी दूसरे से बड़ा होता है. इसलिए इन्हें जुड़वा नहीं बल्कि मिलती जुलती शक्ल वाला समझा जा सकता है.

कैंसर का घर
दुनिया भर में ब्रेस्ट कैंसर के मामले बढ़ते ही जा रहे हैं. केवल 5 से 10 फीसदी मामलों में ही यह परिवार में इसके जीन एक पीढ़ी से दूसरी में पहुंचने के कारण होता है. बाकी करीब 90 फीसदी मामले लाइफस्टाइल और वातावरण से जुड़े होते हैं.

सौंदर्य की माप
कई महिलाएं वक्ष के आकार को सौंदर्य से जोड़ के देखती हैं. इसके आकार से असंतुष्ट होने पर वे सर्जरी करवा कर इसे छोटा या बड़ा करवाती हैं. केवल अमेरिका में ही करीब 4 फीसदी महिलाएं सिलिकॉन या सैलीन इंप्लांट लगवा कर अपने स्तन बड़े करा चुकी हैं.



सिगरेट है दुश्मन
सिगरेट के कुछ रसायन त्वचा और खासकर वक्ष में पाए जाने वाले जरूरी प्रोटीन इलास्टिन को नष्ट करते हैं. इसके कारण धूम्रपान करने वालों के वक्ष धूम्रपान ना करने वालों के मुकाबले ढीले पड़ जाते हैं. इलास्टिन से ही त्वचा में लचीलापन आता है और बिना फटे त्वचा फैल पाती है.

दो नहीं तीन
जी हां, कुछ लोगों में एक तीसरा निप्पल पाया जाता है. इस स्थिति को पॉलीथीलिया कहते हैं. दुनिया के करीब तीन प्रतिशत लोगों में ऐसा एक्स्ट्रा निप्पल पाया जाता है. यह स्थिति महिलाओं ही नहीं पुरुषों में भी पायी जा सकती है.



बड़े वक्ष का रिकॉर्ड
सबसे बड़े प्राकृतिक स्तनों का रिकॉर्ड भी गिनीज बुक में दर्ज है. जहां एक औसत महिला की साइज 34 से 36 इंच के बीच होती है, 1 जनवरी 1999 को रिकॉर्डधारी अमेरिकी महिला एनी हॉकिन्स-टर्नर की साइज 70 इंच दर्ज की गई.
जानिए वक्ष या स्तन से जुड़ी कुछ खास बातें जानिए वक्ष या स्तन से जुड़ी कुछ खास बातें Reviewed by Gajab Dunia on 6:14 PM Rating: 5