करणी माता मंदिर की ये रोचक बातें सुन आश्चर्यचकित हो जाएगे आप

वैसे तो भारत में मां दुर्गा के अनेको मंदिर है जो अपने चमत्कारों के कारण विश्व प्रसिद्ध है। जहां जाने पर आपकी हर मुराद पूरी हो जाती है। आपने माता के कई चमत्कारों के बारें में सुना होगा। किसी मंदिर में माता के कई तरह के सेवक उनकी रक्षा करते है, लेकिन कभी ऐसें मंदिर के बारें में सुना है जिसमें माता के द्वार में सैकड़ों चूहे उनकी रक्षा कर रहे है, चौक गए न कि ऐसा कहां हो सकता है।


हमारे घर में एक चूहा आ जाता है तो हम उत्पाद मचा देते है। बैचेन हो जाते है और उस चूहें को भगाने के लिए हर तरकीब निकालने लगते है। क्योंकि इनसे प्लेग जैसी गंभीर बीमारियां हो जाती है। इसके साथ-साथ हमारे घर से चूहों के रहने के कारण बदबू भी आने लगती गै। लेकिन आप जानते है कि माता का यह एक ऐसा मंदिर है। जहां पर सैकड़ों चूहें रहते है। और इनके रहने से कोई बदबू नहीं फैलती और न ही कोई बीमारी।

राजस्थान के ऐतिहासिक नगर बीकानेर से लगभग 30 किलो मीटर दूर देशनोक में स्थित करणी माता का मंदिर जिसे चूहों वाली माता, चूहों वाला मंदिर और मूषक मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। इस मंदिर को लेकर मान्यता है कि मां दुर्गा का साक्षात अवतार-करणी माता है।

इस मंदिर में खास बात यह है कि इस मंदिर में इतने सारे चूहे रहने के बाद भी यहां पर एक भी बदबू नहीं आती है। साथ ही आज तक कोई बीमारी नहीं फैली और सबसे बड़ी बात यह है कि इस मंदिर में भक्तों को प्रसाद चूहों का झूठा किया हुआ दिया जाता है।

इस मंदिर में आपको कालें रंग के चूहे नजर आएगे, लेकिन जिसे सफेद रंग का चूहा नजर आएगा। समझो उसकी हर मनोकामना पूर्ण हो गई। इतना ही नहीं इस चूहे को देखने के लिए यहां पर भक्तों की काफी होड़ लगती है। इस मंदिर में साल के दोनो नवरात्र में अच्छी खासी भीड़ होती है और माता के मंदिर को सजाकर उत्सव भी मनाया जाता है। इस मंदिर के बनने के पीछे है रोचक कहानी। जानिए वो क्या है।

इस मंदिर को 15 वीं शताब्दी में राजपूत राजाओं ने बनवाया था। माना जाता है कि देवी दुर्गा ने राजस्थान में चारण जाति के परिवार में एक कन्या के रूप में जन्म लिया और फिर अपनी शक्तियों से सभी का हित करते हुए जोधपुर और बीकानेर पर शासन करने वाले राठौड़ राजाओं की आराध्य बनी।

सन् 1387 में जोधपुर के एक गांव में जन्मी इस कन्या का नाम वैसे तो रिघुबाई था पर जनकल्याण के कार्यों के कारण करणी माता के नाम से इन्हें पूजा जाने लगा। और यह नाम इन्हें मात्र 6 साल की उम्र में ही उनके चमत्कारों व जनहित में किए कार्यों से प्रभावित होकर ग्रामीणों ने दिया था।

यह हैं करणी माता के पीछे की कहानी
इस मंदिर के बारें में कथा है कि करणी माता का जन्म सन् 1387 में एक चारण परिवार में हुआ था। उनका बचपन का नाम रिघुबाई था। रिघुबाई की शादी साठिका गांव के किपोजी चारण से हुई थी लेकिन शादी के कुछ समय बाद ही उनका मन सांसारिक जीवन से ऊब गया इसलिए उन्होंने किपोजी चारण की शादी अपनी छोटी बहन गुलाब से करवाकर खुद को माता की भक्ति और लोगों की सेवा में लगा दिया।

जनकल्याण, अलौकिक कार्य और चमत्कारिक शक्तियों के कारण रिघु बाई को करणी माता के नाम से स्थानीय लोग पूजने लगे। वर्तमान में जहां यह मंदिर बना हुआ है वहां पर एक गुफा में करणी माता अपनी इष्ट देवी की पूजा किया करती थी। यह गुफा आज भी मंदिर परिसर में बनी हुई है।

कहा जाता है कि करणी माता 151 साल तक जिंदा रही और 23 मार्च 1538 को ज्योतिर्लिन हुई थी। उनके ज्योतिर्लिन होने के बाद उनके भक्तों ने उनकी मूर्ति की स्थापना कर के उनकी पूजा शुरू कर दी जो की तब से आज भी चली आ रही है।

करणी माता बीकानेर राजघराने की कुलदेवी है। कहा जाता है कि इनके आशीर्वाद से ही बीकानेर और जोधपुर रियासत की स्थापना हुई थी। करणी माता के वर्तमान मंदिर का निर्माण बीकानेर रियासत के महाराजा गंगा सिंह ने 20वीं शताब्दी के शुरुआत में करवाया था।

इस मंदिर में चूहों के अलावा, संगमरमर के मुख्य द्वार पर की गई उत्कृष्ट कारीगरी, मुख्य द्वार पर लगे चांदी के बड़े-बड़े दरवाजे, माता के सोने के छत्र और चूहों के प्रसाद के लिए रखी चांदी की बहुत बड़ी परात भी मुख्य आकर्षण है।

यहां पर सिर्फ चूहों का शासन
इस मंदिर में प्रवेश करते ही आपको हर जगह चीजें नजर आएगें। इतना ही नही यह आपके शरीर में भी उछल-कूद करेगे। जिसके कारण यहां पर आपको अपने पैर घसीटते हुए जाना पडता है। जिससे कि कोई चूहा घायल न हो। अगर आपने पैर उठाया और आपके पैर से कोई चूहा घायल हुआ तो यह अशुभ माना जाता है।

यहां पर कम से कम 20000 चूहे रहते है। और इन चूहों में कुछ सफेद चूहे रहते है जो कि बहुत ही पवित्र माने जाता है। मान्यता है की यदि आपको सफ़ेद चूहा दिखाई दे गया तो आपकी मनोकामना अवश्य पूर्ण होगी।

दिया जाता है भक्तों को स्पेशल प्रसाद
इस मंदिर में रहने वाले चूहों की अपनी ही एक विशेषता है। इस मंदिर में सुबह 5 बजें मंगल आरती और शाम को 7 बजे आरती करते समय सभी चूहें अपने बिल से बाहर आ जाते है। यहां पर रहने वाले चूहों को काबा कहा जाता कहां जाता है।

मां को जो प्रसाद चढाया जाता है वो पहले चूहे खाते है। उसके बाद उसे भक्तों के बीच बांटा जाता है। इस चूहों की चील, गिद्ध और दूसरे जानवरो से रक्षा के लिए मंदिर में खुले स्थानो पर बारीक जाली लगी हुई है।

यह चूहे है माता की संतान
मन्याता है कि इस मंदिर में जो भी चूहे रहते है वो माता के संतान है। इनकी एक कथा के अनुसार एक बार करणी माता का सौतेला पुत्र लक्ष्मण, कोलायत में स्थित कपिल सरोवर में पानी पीने की कोशिश में डूब कर मर गया। जब करणी माता को यह पता चला तो उन्होंने, मृत्यु के देवता यम को उसे पुनः जीवित करने की प्रार्थना की। पहले तो यम राज़ ने मन किया पर बाद में उन्होंने विवश होकर उसे चूहे के रूप में पुर्नजीवित कर दिया।

लेकिन यहां के लोकगीतों में दूसरी ही कथा कही जाती है। इसके अनुसार एक बार 20000 सैनिकों की एक सेना देशनोक पर आक्रमण करने आई जिन्हे माता ने अपने प्रताप से चूहे बना दिया और अपनी सेवा में रख लिया। जो कि अब माता के दरबार में उनकी रक्षा करते है।

नवरात्र नवरात्री स्पेशल 
करणी माता मंदिर की ये रोचक बातें सुन आश्चर्यचकित हो जाएगे आप करणी माता मंदिर की ये रोचक बातें सुन आश्चर्यचकित हो जाएगे आप Reviewed by Gajab Dunia on 8:41 AM Rating: 5