Olympic rings का मतलब जानते हो? जानिए अभी


ओलम्पिक..ओलम्पिक.. आखिर है क्या ओलम्पिक। हम भी बहुत देख रहे हैं कि लोग फेसबुक पर RIO OLYMPIC से मढ़ी हुई फोटो लगा रहे हैं। क्यों भाई? अच्छा प्रोमोट कर रहे हैं क्या OLYMPIC को? इन लोगों को ओलम्पिक के बारे में कुछ पता हो चाहे न हो पर प्रोमोट ज़रूर करेंगे बूरा न मानना भाई 2 दिन से हमारे फेसबुक पर बस ओलम्पिक वाली प्रोफाइल पिक्स दिख रही हैं। 

यही बात हमको खल गयी और हमने सोचा कि आज आपकी क्लास ले लें। अच्छा बन्धुओं ये बताओ कि ओलम्पिक रिंग का मतलब क्या है? अब कौन जाए मतलब पता करने.. DP चेंज हो गयी 20-25 Likes मिल गये काम खत्म।  चलो हम बता देते हैं।

पहले तो यह जान लीजिए ओलम्पिक रिंग को ‘पियरे डी कॉबर्टिन’ ने 1913 में बनाया था। ओलम्पिक खेलों के जन्मदाता भी यही हैं।
वेसे तो ओलम्पिक रिंग 1914 में स्वीकार कर लिया गया था पर बेल्जियम ओलम्पिक्स 1920 में इसे ओलम्पिक LOGO का रूप मिला। ओलम्पिक रिंगों का कलर नीला, पीला, काला, हरा, लाल होता है जबकि बैकग्राउंड सफेद होता है। ये रिंग एक प्रतिक्रिया को दर्शाती है, जिस चीज़ में हरदम मूवमेंट हो या जो चीज़ गतिशील हो। साथ ही यह रिंग पांचों महासागरों में संगठन को दर्शाती है। इसके आलावा यह रिंग अलग-अलग देशों से आए हुए खिलाड़ियों के मिलाप को प्रदर्शित करती है।



वैसे तो ओलम्पिक में अमेरिका, अफ्रीका, यूरोप, एशिया और ऑस्ट्रेलिया जैसे महाद्वीपों के देश भाग लेते हैं। इन देशों के झंडे का रंग अलग-अलग होता है। अगर देखा जाए तो ये रिंग इन पांचों महाद्वीपों के झंडों के रंग को संजोए हुए है। इस रिंग में काला रंग अफ्रीका के झंडे से लिया गया है, यूरोप के झंडे से नीला और अमेरिकी झंडे से लाल, ऑस्ट्रेलिया से पीला रंग और एशियन झंडे से हरा रंग लिया गया है।

तो पहले ये जान लो फिर प्रोफाइल पिक चेंज करना। अगर जानकारी अच्छी लगी तो सबको पढ़ाओ। 🙂
Olympic rings का मतलब जानते हो? जानिए अभी Olympic rings का मतलब जानते हो? जानिए अभी Reviewed by Gajab Dunia on 11:58 PM Rating: 5