सालों से लड़कियों को कर रहा था Sexually Harass, लड़कियों ने Facebook पर किया पर्दाफाश

कोलकाता की जादवपुर यूनिवर्सिटी से जितने भी छात्र ग्रेजुएट हुए थे, 23 जुलाई, 2016 को उनकी Facebook Timeline पर एक मैसेज था, मैसेज क्या था, उस कॉलेज में Sexual Harassment के एक लंबे इतिहास को दुनिया के सामने रखने का हिम्मत एक लड़की कर पायी थी.


जादवपुर यूनिवर्सिटी के इंग्लिश डिपार्टमेंट में एकलव्य चौधरी नाम का एक लड़का, न जाने कितनी ही लड़कियों को Sexually Harass कर चुका था. कभी Facebook मैसेज के ज़रिये, कभी Chats पर, कभी सामने, कभी इधर-उधर किसी तरह से लड़कियों को परेशान करता था. ऐसा वो बड़े आराम से पिछले 3 सालों से कर रहा था.

इस Facebook Post को दुनिया के सामने रखने वाली इस लड़की को एकलव्य चौधरी हर तरह से Bully और Molest कर रहा था. इसमें उसका साथ दे रही थी Presidency कॉलेज की उसकी दोस्त जान्हवी मुख़र्जी.

इस लड़की ने अपने साथ हुए सारे घटनाक्रम को जिस पोस्ट में लिखा है, वो अंग्रेजी में है, हम उसका हिंदी अनुवाद कर रहे हैं.

कुछ दिनों पहले मैंने एक यूनिवर्सिटी के कैंपस में हुई Sexual Harassment की घटनाओं के बारे में बात की थी. मैं खुद इस तरह की शर्मनाक घटना की Victim रह चुकी हूं और इसे झेल चुकी हूं.
मुझे मेरे एक क्लासमेट एकलव्य चौधरी ने चार अलग-अलग समय इस यूनिवर्सिटी में प्रताड़ित किया है. उसके खिलाफ मैंने 24 अगस्त को कंप्लेंट लिखवाई थी, जो संयोगवश मेरा जन्मदिन भी है. मैंने आज तक जो भी किया, ये उनमें सबसे अच्छा काम था.
लेकिन मेरी मुश्किलें यहीं खत्म नहीं हुईं, एकलव्य एक संप्रभु परिवार से ताल्लुक रखता है और उसकी खुद की अच्छी-खासी फैन फॉलोविंग है. उनमें से एक है जान्हवी मुखर्जी, जिसने मुझे कई बार परेशान करने और प्रताड़ित करने की कोशिशें की हैं. कंप्लेंट लिखवाने के बाद से मुझे लोगों ने न जाने क्या-क्या कहा, अजीब-अजीब नामों से पुकारा. मेरे जानने वालों ने भी मुझे इसके लिए गलत ठहराना शुरू कर दिया था.
लेकिन एक समय आता है, जब आप इस दर्द को और नहीं झेल सकते, मेरे लिए वो समय आ गया था. अब मैं उस आदमी को अपने सामने और बर्दाश्त नहीं कर सकती थी, अब मैं उसे मेरे शरीर का इस्तेमाल करने नहीं देना चाहती थी. अब मुझे उसकी बू से दूर होना था. ऐसे समय पर आप अपने दोस्तों के सामने टूट जाते हैं, लेकिन मैं नहीं टूटी. मैंने इस बारे में किसी को नहीं बताया, इसे अकेले झेलती रही. लेकिन जब मेरे साथ ऐसा चौथी बार हुआ, तो मैं खुद को रोक नहीं पायी.
मैंने अपनी एक दोस्त को इस बारे में बताया, उस दिन से लेकर आज तक वो मेरे साथ है, मेरा सपोर्ट करती है. जिसने मेरे साथ ये किया, वो मेरा क्लासमेट था, एक कथित बुद्धिजीवी था और इस समाज में सम्मानित-चर्चित लोगों में से एक था.
कुछ दिनों पहले मुझसे एक क्लासमेट ने पूछ लिया, तुमने इस सब की रिपोर्ट क्यों नहीं कार्रवाई? एक पढ़ी-लिखी महिला होने के बावजूद तुम चुप क्यों रही?
आप सभी के लिए मेरे पास दो-टूक जवाब है.
एकलव्य चौधरी, जो मुझे मोलेस्ट कर रहा था, वो इस यूनिवर्सिटी के सम्मानित प्रोफेसर का बेटा है, उसके माता-पिता को शहर जानता है. और मैं कौन हूं? कोई भी नहीं? न दुनिया मुझे जानती है, न ही मेरे मां-बाप बुद्धिजीवियों के सम्मानित कोटे में आते हैं. मुझे पता है, मैंने खुद को कैसे संभालकर इस लड़के के खिलाफ कंप्लेंट की है. डिपार्टमेंट ने मेरी बहुत मदद की.
वो जिस तरह की अश्लील बातें वो मुझसे करता था, 'अपने Penis को मेरी बॉडी में Insert करने की' वो सब बंद हो गया. लेकिन कुछ ऐसा भी था, जो बंद नहीं हुआ. बंद नहीं हुआ तो उन लोगों का घूरना और मेरे बारे में बातें करना.

इस Facebook मैसेज के बाद कई लड़कियां सामने आई, जिन्होंने एकलव्य के बारे में खुल कर बात की. इस लड़की के अलावा ऐसे 13 लड़कियां हैं और न जाने कितनी और होंगी जिनके साथ इस लड़के ने सरेआम ऐसी हरकत करने की सोची। उसके साथ को और मज़बूत किया जान्हवी मुख़र्जी ने, जिसके चरित्र के बारे में क्या कहा जाए, ये कहना मुश्किल है.

इन लोगों ने मिल कर इस लड़की का जीना इस कदर मुश्किल कर दिया था कि जब उसने Facebook पर किसी Job Portal के लिए अपडेट किया, तो उस पर भी उस लड़की ने मैसेज करने शुरू कर दिए. इस लड़की ने जो Original Facebook Post की थी, उसे ये बोल कर हटा दिया गया कि ये Facebook की Guidelines में नहीं आतीं. अभी ऊपर जो आपने पढ़ा, वो उसके द्वारा किया गया दूसरा अपडेट है.

एकलव्य चौधरी और उसकी दोस्त जान्हवी मुख़र्जी दोनों ऐसे परिवार से संबंध रखते हैं, जिनकी पहुंच काफी ऊंची है. लेकिन फिर भी इस लड़की ने कोशिश की उस डर से लड़ने की, जिससे हर लड़की सहम जाती है.

सोचिये आपको कोई भद्दे मैसेज करता है, आप उसके खिलाफ रिपोर्ट करते हैं (इससे पहले कई दिनों तक आप खुद को समझाते हैं कि शायद ये एक दिन रुक जाएगा) लेकिन फिर एक नया डर आगे आ जाता है. आपको अलग-अलग जगह से लोग धमकाते हैं, डराते हैं, आपके बारे में बातें बनाते हैं.

हर चीज़ के ज़िम्मेदार आप ठहराए जाते हैं और फिर अपने सम्मान के बारे में सोच कर आप चुप हो जाते हैं. क्योंकि आपको भरोसा दिलाने वाला कोई नहीं है. कोई नहीं है, जो ये कहे कि हम तुम्हारे साथ हैं. लेकिन इस लड़की के साथ थी, वो लड़कियां जिन्होंने इसी लड़की की वजह से एकलव्य चौधरी जैसे 'पहुंचे' बुद्धिजीवी के खिलाफ़ बोलने की हिम्मत दिखाई. दो लड़कियों ने उसके खिलाफ कंप्लेंट लिखवाई है.

जादवपुर यूनिवर्सिटी के Anti-Sexual Harassment Cell में एकलव्य चौधरी के खिलाफ कुछ चल रहा है, कुछ उसके खिलाफ और कड़े फैसले लेने की पैरवी कर रहे हैं.

हमें गर्व है इन लड़कियों पर, जिन्होंने इतने बड़े Sexual Criminal के खिलाफ अवाज्ज़ उठायी. आशा है ये कानून, यूनिवर्सिटी के नियम उनका साथ देंगे. बस एक बात और:

source : eyeartcollective.com
सालों से लड़कियों को कर रहा था Sexually Harass, लड़कियों ने Facebook पर किया पर्दाफाश सालों से लड़कियों को कर रहा था Sexually Harass, लड़कियों ने Facebook पर किया पर्दाफाश Reviewed by Gajab Dunia on 1:40 PM Rating: 5