इन 6 योग गुरूओं की संपत्ति साबित करती है कि योग तन के के लिए ही नहीं, धन के लिए भी अच्छा है

आपको क्या लगता है किस बिज़नेस में सबसे ज़्यादा पैसा है. कंस्ट्रक्शन में, सोना-चांदी के व्यवसाय में, खाद्य उत्पादों में या कोई और? छोटे से छोटा व्यवसाय शुरू करने के लिए पूंजी की ज़रूरत होती है, लेकिन आपकी नज़रों से दूर एक व्यवसाय ऐसा भी है जिसने कई लोगों को करोड़पति, अरबपति बना दिया है. नज़रों से दूर इसलिए क्योंकि ये व्यवसाय तब फल-फूल रहा होता है जब आप चादर तान कर सो रहे होते हैं. ये है योग का व्यवसाय जिसने लोगों की Health को इनके ट्रेनर के लिए Wealth में बदल दिया, वो भी करोड़ों में. ये हैं देश के सबसे अमीर योग गुरू...

1. बाबा रामदेव (1965 से)

व्यवसायी: पतंजलि योग
व्यवसाय: रियल एस्टेट, जैविक FMCG उत्पाद, योग शिविर.
राजस्व: 5,000 करोड़ रुपये



2. योगी हरभजन सिंह (1929-2004)

व्यवसयी- कुंडलिनी योग
व्यवसाय - सुरक्षा सेवा
राजस्व: सालाना 100 करोड़ डॉलर



3. धीरेंद्र ब्रह्मचारी (1924-1994)

व्यवसायी: हठ योग
व्यावसाय: रियल एस्टेट, योग केंद्र, बंदूक के कारखाने
कुल मूल्य: 500 करोड़ रुपये



4. भरत ठाकुर (1975 से)

व्यवसायी- आर्टिस्टिक योग
व्यवसाय - योगा सेंटर, पैकेज्ड वॉटर, ​फिल्म प्रोडक्शन
कुल मूल्य- 10 करोड़ डॉलर



5. बिक्रम चौधरी (1946 से)

व्यवसायी: बिक्रम योग
व्यवसाय: योगा स्कूल, पेटेंट रॉयल्टी
कुल मूल्य: 7.5 करोड़ डॉलर



6. श्री श्री रवि शंकर (1956 से)

व्यवसायी: आर्ट आॅफ लिविंग
व्यवसाय: आर्ट आॅफ लिविंग की कार्यशाला, फार्मेसी, स्वास्थ्य केन्द्र
राजस्व: ₹ 1,100 करोड़ रुपये



योगा के लिए इससे ज़्यादा प्रेरक बात कोई नहीं होगी! अब हम सोने जा रहे हैं, कल जल्दी उठना है!

Article Source- Newsflicks
इन 6 योग गुरूओं की संपत्ति साबित करती है कि योग तन के के लिए ही नहीं, धन के लिए भी अच्छा है इन 6 योग गुरूओं की संपत्ति साबित करती है कि योग तन के के लिए ही नहीं, धन के लिए भी अच्छा है Reviewed by Gajab Dunia on 11:02 PM Rating: 5