ये है कृष्ण के घातक सुदर्शन चक्र का अनसुना सच...


सुदर्शन चक्र एक ऐसा अचूक अस्त्र था कि जिसे छोड़ने के बाद यह लक्ष्य का पीछा करता था और उसका काम तमाम करके वापस छोड़े गए स्थान पर आ जाता था। चक्र को विष्णु की तर्जनी अंगुली में घूमते हुए बताया जाता है। आगे पढ़ें, सुदर्शन चक्र से जुड़ी मिथकीय मान्यताएं...



सुदर्शन चक्र सबसे पहले भगवान विष्णु के पास था। सिर्फ देवताओं के पास ही चक्र होते थे। चक्र सिर्फ उस मानव को ही प्राप्त होता था जिसे देवता लोग नियुक्त करते थे।



पुराणों के अनुसार विभिन्न देवताओं के पास अपने-अपने चक्र हुआ करते थे। सभी चक्रों की अलग-अलग क्षमता होती थी और सभी के चक्रों के नाम भी होते थे। महाभारत युद्ध में भगवान कृष्ण के पास सुदर्शन चक्र था।



शंकरजी के चक्र का नाम भवरेंदु, विष्णुजी के चक्र का नाम कांता चक्र और देवी का चक्र मृत्यु मंजरी के नाम से जाना जाता था। सुदर्शन चक्र का नामभगवान कृष्ण के नाम के साथ अभिन्न रूप से जुड़ा हुआ है।


प्राचीन और प्रामाणिक शास्त्रों में ऐसी मान्यता है कि इसका निर्माण भगवान शंकर ने किया था। निर्माण के बाद भगवान शिव ने इसे श्री विष्णु को सौंप दिया था। जरुरत पडऩे पर श्री विष्णु ने इसे देवी को प्रदान कर दिया।



भगवान श्री कृष्ण के पास यह देवी की कृपा से आया। यह चांदी की शलाकाओं से निर्मित था। इसकी ऊपरी और निचली सतहों पर लौह शूल लगे हुए थे।



इसमें अत्यंत विषैले किस्म के विष, जिसे द्विमुखी पैनी छुरियों मे रखा जाता था, इसका भी उपयोग किया गया था। इसके नाम से ही विपक्षी सेना में मौत का भय छा जाता था।



चक्र को छोटा, लेकिन सबसे अचूक अस्त्र माना जाता था। सभी देवी-देवताओं के पास अपने-अपने अलग-अलग चक्र होते थे। उन सभी के अलग-अलग नाम थे।



तमिल भाषा में सुदर्शन चक्र को चक्रथ अझवार कहते हैं। जो चक्री साम्राज्य से जुड़ा हुआ है। चक्री साम्राज्य ही वर्तमान में थाईलैंड पर राज कर रहा है। उसका नामकरण सुदर्शन चक्र पर ही हुआ है।
ये है कृष्ण के घातक सुदर्शन चक्र का अनसुना सच... ये है कृष्ण के घातक सुदर्शन चक्र का अनसुना सच... Reviewed by Gajab Dunia on 11:10 PM Rating: 5