’मदारी’में इरफ़ान खान दिखाते हैं एक बाप का दर्द और उसका इंतक़ाम

"बाज़ चूज़े पर झपटा, उठा ले गया. कहानी सच्ची लगती है लेकिन अच्छी नहीं लगती. बाज़ पर पलटवार हुआ, कहानी सच्ची नहीं लगती, लेकिन ख़ुदा कसम बहुत अच्छी लगती है.”

ये डायलॉग है 'मदारी' फ़िल्म का। फ़िल्म की कहानी एक सच्ची घटना पर आधारित है। मुख्य भूमिका में इरफ़ान खान, जिमी शेरगिल और तुषार दाल्वी हैं। ट्रेलर को देखने से तो फ़िल्म की कहानी एक बाप के बदले के इर्द-गिर्द घूमती दिखती है, लेकिन यहां बातें करके आपका समय ज़ाया करने से बेहतर है कि आप ट्रेलर देखें। 



फ़िल्म के निर्देशक निशिकांत कामत हैं। वो इससे पहले 'मुंबई मेरी जान', 'फोर्स', 'दृश्यम' और हाल ही में आई फ़िल्म 'रॉकी हैंडसम' निर्देशित कर चुके हैं। 10 जून 2016 को फ़िल्म रिलीज़ होने जा रही है।
’मदारी’में इरफ़ान खान दिखाते हैं एक बाप का दर्द और उसका इंतक़ाम ’मदारी’में इरफ़ान खान दिखाते हैं एक बाप का दर्द और उसका इंतक़ाम Reviewed by Rajmal Menariya on 6:14 PM Rating: 5