जानिये कंडोम का इतिहास

क़डोम के बारे में हम सब जानते हैं। लेकिन कभी सोचा है कि इसकी शुरुआत कब हुई। और आज जो हम कंडोम देखते हैं वो पहले मिलने वाले कंडोम से कितने अलग हैं। कंडोम की खोज से ले कर आज तक के सफ़र पर आज एक नज़र डालते हैं और आपको बताते हैं कि कैसे हमारे पूर्वजो ने इसकी ख़ोज की थी।

1564 में पहली बार इटली के डॉक्टर Gabriel Fallopio ने एक ऐसी चीज़ बनाइ थी जो सुरक्षित सेक्स को बढ़ावा देती थी। लेकिन उस वक़्त लोगों को Gabriel Fallopio की ये खोज़ बेवकूफ़ी भरी लगी थी।




1600 में पहली बार कंडोम का आकार सबके सामने आया। इसे जानवरों की खाल से बनाया जाता था। लेकिन इसकी कीमत इतनी ज़्यादा थी कि इसे आम लोग इस्तेमाल नहीं कर सकते थे।




1605 में कैथलिक गुरू Leonardus Lessius ने कंडोम के इस्तेमाल को अधर्मी बताया था। उनके हिसाब से सेक्स के बीच किसी भी रूकावट को भगवान के खिलाफ़ माना जाता था।




1839 में पहली बार Charles Goodyear ने रबर कंडोम की खोज की, जिसकी कीमत जानवरों की खाल से बने कंडोम से कहीं कम थी।


1919 में पहली बार ऐसा कंडोम बना जो आज के कंडोम से काफ़ी हद तक मिलता-जुलता था। और पहली बार ये कंडोम आम लोगों के लिए मार्केट में उतारा गया था।



1931 में कंडोम को अमेरिकी आर्मी के लिए ज़रूरी वस्तु बना दिया गया। इस साल के बाद से ही आर्मी के जवानों को कंडोमे फ्री बांटे जाने लगे थे।



1957 में Durex ने दुनिया का पहला lubricated कंडोम बाज़ार में उतारा था।





1979 में अमेरिका में कंडोम के विज्ञापन पर लगी रोक को हटा दिया गया था, और इसके सपोर्ट में कानून भी पास किया गया था।



1980 में AIDS ने दुनियाभर में अपने पैर पसारने शुरू किए। इसके फ़ौरन बाद कई देशों ने कंडोम के उपयोग के लिए जनता को जागरूक करना शुरू किया।





साल 1990 में दुनिया को मिला पहला सुगंधित और कलर कंडोम। 1991 में पहली बार Femidom नाम का पहला महिलाओं का कंडोम आया। ये कंडोम इंडस्ट्री और आम लोगों के लिए क्रांती जैसा था।



1995 में 'The Sponge' नाम के एक अमेरिकी शो में पहली बार कंडोम के पैकेट को खोलते हुए दिखाया गया था। किसी शो में इससे पहले कंडोम को नहीं दिखाया गया था।


1997 में पहली बार Durex ने कंडोम की पूरी जानकारी देने के लिए एक वेबसाइट लॉन्च की, साथ ही इसी साल कंपनी ने VIbration वाला कंडोम भी मार्केट में उतारा था।


जानिये कंडोम का इतिहास जानिये कंडोम का इतिहास Reviewed by Menariya India on 10:57 PM Rating: 5