15 दिन बाद समाधि से बाहर आ गए बाबा, चकमा या चमत्कार?

बिहार के मधेपुरा में पिछले 15 दिनों से समाधि लिए प्रमोद बाबा रविवार को साढ़े तीन बजे समाधि से बाहर आ गए। बाबा ने भक्तों का हाथ हिलाकर अभिवादन किया और मंदिर की तरफ चले गए। बाबा के स्वागत के लिए भक्तों की भारी भीड़ उनके इंतजार में घंटो खड़ी रही। बाबा का नजारा देखने के लिए बिहार के कोने कोने से लोग पहुंचे हुए थे।




इस बीच बाबा के बाहर निकलने की खबरों के बीच उनके दावों पर भी सवाल उठने लगे हैं। डॉक्टरों और एक्सपर्टों ने बाबा के इस दावे पर सवाल खड़े किए हैं। डॉक्टर केके पांडे ने कहा कि किसी ने भी बाबा की समाधि की जांच नहीं की है। अभी तक साफ नहीं है कि वहां ऑक्सिजन पहुंच रही थी या नहीं। डॉक्टर पांडे ने कहा कि अगर बाबा को समाधि का सच बताना ही है तो अगली समाधि वह किसी लैब में लें।

भक्तों का दावा है कि प्रमोद नाम के बाबा पिछले 15 दिनों से जमीन के अंदर समाधि लगाए हुए थे। बिना ऑक्सीजन और खाना- पानी के वो जमीन के 15 फीट नीचे तपस्या कर रहे थे। भक्त बताते हैं कि समाधि के लिए 10 फीट लंबा, उतना ही चौड़ा और 15 फीट गहरा गड्ढा खोदा गया। इसके बाद समाधि स्थल के अंदर एक चौकी पर बाबा ध्यान मग्न हो गए। उनके ऊपर से बांस का ढांचा बनाकर उस पर से कपड़ा डालकर मिट्टी डाली गई। दावा किया जा रहा है कि बाहर की हवा अंदर नहीं जा सकती थी।

हालांकि गांव के लोगों के मुताबिक अंदर उतनी जगह थी जिसमे बाबा चाहे तो खड़े हो सकते हैं। भक्तों के मुताबिक साधना के बल पर बाबा ने लंबे समय तक उपवास का अभ्यास कर लिया...इसलिए उन्हें भोजन पानी की जरूरत नहीं पड़ी।
source: ibnlive
15 दिन बाद समाधि से बाहर आ गए बाबा, चकमा या चमत्कार? 15 दिन बाद समाधि से बाहर आ गए बाबा, चकमा या चमत्कार? Reviewed by Menariya India on 6:55 PM Rating: 5