अकबर इलाहाबादी की प्रसिद्ध शायरियों का संग्रह (Collection of Akbar Allahabadi's best Shayari)



इन्हें उर्दू में हास्य-व्यंग का सबसे बड़ा शायर माना जाता हैं। यह पेशे से इलाहाबाद में सेशन जज थे।
Akbar Allahabadi Shayari Collection

*****
1
अकबर दबे नहीं किसी सुल्ताँ की फ़ौज से
लेकिन शहीद हो गए बीवी की नौज से

Akbar dabe nahin kisi sultan ki fauj se
Lekin shahid ho gaye Bivi ki nauj se

******
2

हम आह भी करते हैं तो हो जाते हैं बदनाम
वो क़त्ल भी करते हैं तो चर्चा नहीं होता

Ham aah bhi karte hai to ho jate hai Badnaam
Wo qatl bhi karte hai to charcha nahin hota

*****
3

अब तो है इश्क़-ए-बुताँ में ज़िंदगानी का मज़ा
जब ख़ुदा का सामना होगा तो देखा जाएगा

Ab to hai ishq-e-buta mein zindagani ka maza

Jab khuda ka saamana hoga to dekha jaayega

*****
4

आह जो दिल से निकाली जाएगी
क्या समझते हो कि ख़ाली जाएगी

AAh jo dil se nikali jaayegi
Kya samjhte ho ki khaali jaayegi

*****
5

दुनिया में हूँ दुनिया का तलबगार नहीं हूँ
बाज़ार से गुज़रा हूँ ख़रीदार नहीं हूँ

Duniya mein hoon duniya ka talabgaar nahin hun
Bazaar se gujara hun kharidaar nahin hun

*****
6

ग़म्ज़ा* नहीं होता कि इशारा नहीं होता
आँख उन से जो मिलती है तो क्या क्या नहीं होता

* ग़म्ज़ा = शोख नज़र, कामुक नज़र

Gamza nahin hota ki ishaara nahin hota

Aankh un se jo milati hai to kya kya nahin hota

*****
7

हम ऐसी कुल किताबें क़ाबिल-ए-ज़ब्ती समझते हैं
कि जिन को पढ़ के लड़के बाप को ख़ब्ती* समझते हैं

खब्ती = पागल

Ham aesi kul kitaabein kaabil-e-zabti samjahte hain
Ki jin ko padh ke ladke baap ko khabti samjhte hai

*****
8

हम क्या कहें अहबाब* क्या कार-ए-नुमायाँ* कर गए
बी-ए हुए नौकर हुए पेंशन मिली फिर मर गए

अहबाब = दोस्तों , कार-ए-नुमायाँ = साहस का काम

Ham kya kahein ahbaab kya kaar-e-numaayan kar gaye
B.A. hue naukar hue penshan mili phir mar gaye

*****
9

हर ज़र्रा* चमकता है अनवार-ए-इलाही* से
हर साँस ये कहती है हम हैं तो ख़ुदा भी है

जर्रा = कण, अनवार-ए-इलाही = भगवान की रौशनी

Har jarra chamkata hain anwaar-e-ilaahi se
Har saans ye kehati hain ham hai to khuda bhi hain

*****
10

हया से सर झुका लेना अदा से मुस्कुरा देना
हसीनों को भी कितना सहल* है बिजली गिरा देना

सहल = आसान

Haya se sar jhuka lena ada se muskura dena
Haseenon ko bhi kitna sahal hain bijali gira dena

*****
11

इस क़दर था खटमलों का चारपाई में हुजूम
वस्ल* का दिल से मेरे अरमान रुख़्सत हो गया

वस्ल = मिलन

Is kadar tha khatmalon ka chaarpaai mein hujoom
Vasl ka dil se mere armaan rukhsat ho gaya

*****
12

जो कहा मैं ने कि प्यार आता है मुझ को तुम पर
हँस के कहने लगा और आप को आता क्या है

Jo kaha main ne ki pyaar aata hain mujh ko tum par
Hans ke kehane lagaa aur aap ko aata kya hain

*****
13

इश्क़ के इज़हार में हर-चंद रुस्वाई तो है
पर करूँ क्या अब तबीअत आप पर आई तो है

Ishq ke ijhaar mein har chand ruswaai to hain
Par karun kya tabiat aap par aai to hain

*****
14

इश्क़ नाज़ुक-मिज़ाज है बेहद
अक़्ल का बोझ उठा नहीं सकता

Ishq najuk-mijaaj hain behad
Akl ka bojh utha nahin sakta

*****
15

जान शायद फ़रिश्ते छोड़ भी दें
डॉक्टर फ़ीस को न छोड़ेंगे

Jaan shaayad farishte chhod bhi dein
doktar fees ko na chhodenge

*****
16

जब ग़म हुआ चढ़ा लीं दो बोतलें इकट्ठी
मुल्ला की दौड़ मस्जिद ‘अकबर’ की दौड़ भट्टी

Jab gham hua chadha li do botalein ikaththi
Mulla ki daud maszid ‘Akbar’ ki daud bhatti

*****
17

जब मैं कहता हूँ कि या अल्लाह मेरा हाल देख
हुक्म होता है कि अपना नामा-ए-आमाल देख

Jab mein kehata hun ki ya Allah mera haal dekh
Hukm hota hin ki apna nama-e-aaamaal dekh

*****
18

जवानी की दुआ लड़कों को ना-हक़ लोग देते हैं
यही लड़के मिटाते हैं जवानी को जवाँ हो कर

Jawani ki dua ladakon ko na-haq log dete hain
Yahi ladke mitaate hain jawaani ko jawan ho kar

*****
19

हुए इस क़दर मोहज़्ज़ब* कभी घर का मुँह न देखा
कटी उम्र होटलों में मरे अस्पताल जा कर

मोहज़्ज़ब = सभ्य

Hue is qadar mohjjab kabhi ghar ka munh na dekha
Kati umar hotalon mein mare aspataal jaa kar

*****
20

जो वक़्त-ए-ख़त्ना मैं चीख़ा तो नाई ने कहा हँस कर
मुसलमानी में ताक़त ख़ून के बहने से आती है

Jo waqt-e-khatna main cheekha to naai ne kaha hans kar
Musalmani mein taakat khoon ke behane se aati hain


*****
21

खींचो न कमानों को न तलवार निकालो
जब तोप मुक़ाबिल हो तो अख़बार निकालो

Kheencho na kamaanon ko na talwaar nikaalo
Jab top muqaabil ho to akhbaar nikaalo

*****
22

किस नाज़ से कहते हैं वो झुंजला के शब-ए-वस्ल*
तुम तो हमें करवट भी बदलने नहीं देते

शब-ए-वस्ल = मिलन की रात

Kis naaz se kehate hain wo jhunjala ke shab-e-wasl
tum to hamein karwat bhi badalne nahin dete

*****
23

कुछ तर्ज़-ए-सितम भी है कुछ अंदाज़-ए-वफ़ा भी
खुलता नहीं हाल उन की तबीअत का ज़रा भी

Kuchh tarz-e-sitam bhi hain kuchh andaz-e-wafa bhi
Khulta nahin haal un ki tabiyat ka zara bhi

*****
24

क्या वो ख़्वाहिश कि जिसे दिल भी समझता हो हक़ीर*
आरज़ू वो है जो सीने में रहे नाज़ के साथ

हक़ीर = नीच, घृणित
आरजू = तमन्ना

Kya wo khwahish ki jise dil bhi samjhata ho hakeer
Aarjoo wo hain jo seene mein rahe naaz ke saath

*****
25

लिपट भी जा न रुक ‘अकबर’ ग़ज़ब की ब्यूटी है
नहीं नहीं पे न जा ये हया की ड्यूटी है

Lipat bhi ja na ruk ‘Akbar’ gajab ki byuti hain
Nahin nahinpe na jaa ye haya ki duty hain

*****
26

मेरी ये बेचैनियाँ और उन का कहना नाज़ से
हँस के तुम से बोल तो लेते हैं और हम क्या करें

Meri ye bechaniyan aur un ka kehana naaz se
hans ke tum se bol to lete hain aur ham kya karein

*****
27

मिरा मोहताज होना तो मिरी हालत से ज़ाहिर है
मगर हाँ देखना है आप का हाजत-रवा* होना

हाजत-रवा = आवशयकताओं की पूर्ति करने वाला

Mira mohtaaz hona to miri haalat se zaahir hain
Magar haan dekhana hain aap ka haajat-rawa hona

*****
28

नाज़ क्या इस पे जो बदला है ज़माने ने तुम्हें
मर्द हैं वो जो ज़माने को बदल देते हैं

Naaz kya is pe jo badala hain zamaane ne tumhein
Mard hain wo jo zamaane ko badal dete hain

*****
29

नौकरों पर जो गुज़रती है मुझे मालूम है
बस करम कीजे मुझे बेकार रहने दीजिए

Naukaron par jo gujarti hai mujhe maloom hai
Bas karam kije mujhe bekaar rehane dijiye

*****
30

पैदा हुआ वकील तो शैतान ने कहा
लो आज हम भी साहिब-ए-औलाद हो गए

Paida hua wakeel to shaitan ne kaha
Lo aaj ham bhi saahib-e-aulad ho gaye
------------------------------



Tag: Hindi shayari, Urdu shayari, Hindi roman shayari, shayari sms, 2 line shayari, two line shayari, dosti shayari, wafa shayari, dil shayari, romance shayari, bewafa shayari, muskan shayari, love shayari, dushmani shayari, funny shayari, aansu shayari, aansoo shayari, Shayari collection of all popular shayar like- Ahmad Faraz, Munawwar Rana, Rahat Indori, Nida Fazali, Mirza Gahlib, Sahir Ludhianvi, Kumar vishwas, Firaq gorakhpuri, Faiz ahmad faiz, Akbar Allahabadi Two Line Shayari

Title : अकबर इलाहाबादी  की प्रसिद्ध शायरियों का संग्रह (Collection of Akbar Allahabadi's best Shayari) 
शायरियों का विशाल संग्रह ग़ज़लों का विशाल संग्रह
अकबर इलाहाबादी की प्रसिद्ध शायरियों का संग्रह (Collection of Akbar Allahabadi's best Shayari) अकबर इलाहाबादी  की प्रसिद्ध शायरियों का संग्रह (Collection of Akbar Allahabadi's best Shayari) Reviewed by Menariya India on 10:31 PM Rating: 5