8 सबसे बड़ी अफवाहें, जिनसे धोखा खा गई दुनिया!

दुनिया के 8 ऐसी बड़ी अफवाहें जिन्होंने आपको भी आश्चर्य में जरूर डाला होगा। लेकिन इन्हें आज भी सच तो नहीं मानते हैं न आप? देखिए ये 8 तस्वीरें...

1. महात्मा गांधी का डांसः 



कई लोग इस तस्वीर को आज भी शायद सच ही समझते होंगे लेकिन हकीकत यही है कि इस तस्वीर में इस विदेशी महिला के साथ नाचने वाले शख्स गांधीजी नहीं हैं। दरअसल यह एक ऑस्ट्रेलियाई ऐक्टर है जिसने गांधी जैसी ड्रेस पहन रखी है। गांधीजी पूरी दुनिया के लोगों के लिए आदर्श हैं और आज भी उनके जैसी ड्रेस में लोग देखे जाते हैं।

2. गणेश जी की प्रतिमा के दूध पीने की अफवाह: 



21 सितंबर 1995 का दिन कौन भूल सकता है। 21 सितंबर, गुरुवार के दिन नई दिल्ली के एक मंदिर में सुबह के वक्त हिंदू देवता गणेश जी की प्रतिमा के दूध पीने की अफवाह फैली। देखते ही देखते पूरे देश में यह खबर फैल गई और मंदिरों पर भक्तों की भारी भीड़ इकट्ठा होनी शुरू हो गई। आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि न सिर्फ भारत में बल्कि पूरे एशिया में कई स्थानों पर यह अफवाह फैली।


3. हिटलर डायरीः 



अप्रैल, 1983 को जर्मन पत्रिका स्टर्न ने दुनिया के सबसे बड़े सनसनीखेज खुलासे का दावा किया था। पत्रिका का कहना था कि उसके पास एडोल्फ़ हिटलर की लिखी हुई डायरी है.वह डायरी जो हिटलर ने द्वितीय विश्वयुद्ध के तनावभरे दिनों के दौरान लिखी थी लेकिन जिसे सबसे बड़ा खुलासा कहा जा रहा था वह पत्रकारिता की दुनिया का सबसे बड़ा धोखा साबित हुआ।


4. ऐसा आदमी जो था ही नहीं (ऑपरेशन मिंसमीट):



कौन कहता है धोखेबाजी फायदा नहीं देती?, खासतौर से युद्ध के समय? दूसरे विश्व युद्ध के दौरान ब्रिटिश सेना ने एक आदमी के जरिए जर्मन सेना को चकमा देने की कोशिश की थी। इस मृत आदमी की प्रतिकृति जर्मनी को धोखा देने के लिए खास तौर से तैयार की गई थी। ब्रिटेन ने इस निमोनिया पीड़ित आदमी को रॉयल मैरिन यूनिफॉर्म की ड्रेस पहनाकर इसके हाथों में हथकड़ी बांध दी। ब्रिटने का यह 'टॉप सीक्रेट' मिशन था।


5. पिल्टडाउन मैनः 



चार्ल्स डॉसन नाम के झूठे वैज्ञानिक ने 48 साल की उम्र में पिल्टडाउन मैन का सिद्धांत दिया, जिसमें दावा किया गया कि उन्होंने पांच लाख साल पुराने कंकाल खोजे हैं। उस वक्त नैचुरल हिस्ट्री म्यूजियम ने भी उनका डंका पीटा और कहा कि यह मानव उद्भव की दिशा में बड़ी खोज है। 1912 में पिल्टडाउन मैन सिद्धांत आया था, जिसमें पांच लाख साल पुरानी हड्डियों के मिलने का दावा किया गया। बाद में पता चला कि चिंपैंजी के जबड़े में अलग से मानव खोपड़ी फिट करके स्वांग भरा गया। मामले का खुलासा 1953 में हुआ था। इस धोखाधड़ी को वैज्ञानिक 40 साल के समय की बर्बादी मानते हैं।


6. ऐलियन की ऑटोप्सीः



साल 1995 में फॉक्स टेलीविजन नेटवर्क ने एक स्पेशल फिल्म दिखाई जो कि रोजवेल घटना का महत्व दर्शाती थी। इस शो का शीर्षक 'एलियन ऑटोप्सी : फैक्ट ऑर फिक्शन' था जिसमें डॉक्टरों को एक एलियन का शव परीक्षण करते दिखाया गया था। इस फिल्म का फुटेज एक ब्रिटिश कारोबारी रे सैंटिली का था जिन्होंने फॉक्स ब्रॉडकास्ट के एक दशक बाद माना था कि एलियन ऑटोप्सी का फुटेज नकली था। लेकिन उनका कहना था कि यह फिल्म वास्तव में एक वास्तविक‍ फिल्म का रिकंस्ट्रक्शन थी, जिसे उन्होंने 1992 में देखा था और इसे नष्ट नहीं किया गया था। फिलहाल ऐसी कोई नवीनतम फिल्म जारी नहीं की गई है। साथ ही, जो तस्वीरें ली गई हैं वे तस्वीरें भी सैंटिली के उस फुटेज की हैं जिसे अभी भी यूट्यूईब पर देखा जा रहा है।


7. परियों की तस्वीरें: 



इंग्लैंड में ब्रैडफोर्ड के पास कोट्टींगली में दो चचेरी बहनें फ्रांसिस ग्रिफिथ्स (10) और एल्सी राइट (17) एक दिन बगीचे में गईं। एल्सी ने अपने पिता के कैमरे से वहां 5 तस्वीरें खींचीं। इन तस्वीरों को साफ किया तो उनमें नाचती हुई परियां नजर आ रही थीं। 1919 में यह बात शरलॅक होम्स के लेखक सर ऑर्थर कॉनन डॉयल को पता चली तो उन्होंने एक प्रमुख पत्रिका में यह परियों की तस्वीर की घटना पर आर्टिकल लिख डाला। फिर तो ये तस्वीरें खूब चर्चित हुईं।

50 साल तक लोग इसे सही समझते रहे। 1981-82 में फ्रांसिस ग्रिफिथ्स और एल्सी राइट ने स्वीकार कर लिया कि परियों की तस्वीर वाली बात सफेद झूठ थी। फ्रांसिस ने कहा, 'मुझे ताज्जुब है, लोगों ने विश्वास कैसे कर लिया कि वे सचमुच परियां थीं।'

8. जियॉनिस्ट प्रोटोकॉलः 



क्या आपको कभी हैरानी हुई है कि हिटलर और नाजी सेना ने यहूदियों की जन्मस्थली का पता लगाने के लिए किस बेवकूफी से भरे डॉक्युमेंट का सहारा लिया। इसकी जानकारी उन्होंने जियॉनिस्ट प्रोटोकॉल से जुटाई हुई हो सकती है जो 1905 में रूस में सामने आया था, इसी में यहूदियों के दुनिया पर कब्जा करने का प्लान भी रेखांकित था। निश्चित ही, यह पूरी तरह से झूठ था।
source: ibnlive
8 सबसे बड़ी अफवाहें, जिनसे धोखा खा गई दुनिया! 8 सबसे बड़ी अफवाहें, जिनसे धोखा खा गई दुनिया! Reviewed by Menariya India on 8:54 PM Rating: 5