कभी चंदा मामा तो कभी चांदनी, जानिए चंद्रमा से जुड़े 14 हैरान कर देने वाले तथ्य।

चंद्रमा को लेकर कहानियों का संसार बहुत रोचक है। लेकिन इन सबसे परे चांद को लेकर विज्ञान की दुनिया ने भी बड़ी ही रोचक और यथार्थपरक जानकारी सामने रखी हैं। चौहदवीं का चांद आपने देखा होगा अब जानिए चांद से जुड़े 14 हैरान कर देने वाले तथ्य।




1. पृथ्वी का एकमात्र प्राकृतिक उपग्रहः


चन्द्रमा पृथ्वी का एकमात्र प्राकृतिक उपग्रह है। चन्द्रमा 4.5 अरब साल पहले पृथ्वी और थीया (मार्स के आकार का तत्व) के बीच हुए भीषण टकराव के बाद बचे हुए अवशेषों के मलबे से बना था।


2. चांद पर हो जाता है वजन कमः



चंद्रमा की गुरुत्वाकर्षण शक्ति पृथ्वी से कम होती है। अगर आंकड़ों में बात की जाए तो चांद पर इंसान का वजन 16.5% कम होता है। यही कारण है कि चांद पर अंतरिक्ष यात्री ज्यादा उछलकूद कर सकते हैं।

3. नींद पर असर डालता है चांदः



यूनिवर्सिटी ऑफ बेसल, स्विट्ज़रलैंड का मानना है कि चांद हमारी नींद पर भी असर डाल सकता है। अमावस्या पर लोग जहां अच्छी नींद का आनंद लेते हैं वही पूर्णिमा पर नींद कम आती है। हालांकि विज्ञान अभी तक इस बात को साबित नहीं कर पाया है।


4. चांद से बड़े उपग्रह भी मौजूदः


सौर जगत में चंद्रमा से बड़े चार और उपग्रह हैं। इनमें सबसे बड़ा बृहस्पति ग्रह के पास स्थित है जोकि असल में प्लूटो और बुध ग्रह से भी बड़ा है। इसके अलावा टाइटन, कैलीस्टो और ईओ भी चंद्रमा से बड़े हैं।


5. अमेरिका ने की थी चांद को परमाणु बम से उड़ाने की साजिशः



1950 के दशक के दौरान अमेरिका ने परमाणु बम से चंद्रमा को उड़ाने की योजना बनाई थी। शीत युद्ध के दौरान अपनी ताकत का प्रदर्शन करने के लिए इस टॉप सीक्रेट प्रोजेक्ट को प्रोजेक्ट ए119 का नाम दिया गया था। ये प्रोजेक्ट कभी हकीकत में बदल नहीं पाया लेकिन ये सोवियत संघ को चेताने के लिए था जिसने अपना पहला उपग्रह स्पुत्निक-1 लांच कर अमेरिका को अपनी तकनीकी दक्षता का परिचय दे दिया था।


6. चांद पर है 19 एमबीपीएस की स्पीडः



अगर आप अपने इंटरनेट की स्पीड से खुश नहीं हैं तो आप चांद का रुख कर सकते है। जी हां, नासा ने वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाते हुए चांद पर वाई-फाई कनेक्शन की सुविधा उपलब्ध कराई है जिसकी 19 एमबीपीएस की स्पीड बेहद हैरतअंगेज है।


7. पृथ्वी से दूर हो रहा है चांदः



चंद्रमा पृथ्वी से हर साल 3.78 सेमी दूर होता जा रहा है और अगले 50 अरब साल तक ऐसा ही होता रहेगा। ऐसा होने पर चांद पृथ्वी की परिक्रमा करने में 47 दिन लगाएगा। अभी चांद को पृथ्वी की परिक्रमा करने में 28 दिन लगते हैं।


8. 12 लोग ही पहुंचे हैं चांद परः



आज तक महज 12 लोग ही चांद पर कदम रख पाए हैं। यूजीन कर्नान आखिरी इंसान थे जिन्होंने मिशन एपोलो-17 के तहत चांद की धरती पर कदम रखा था। उसके बाद से केवल मशीनी रोबोट ही चांद पर पहुंचे हैं।


9. चांद पर मौजूद बेहद अस्थिर वायुमंडलः


यह आश्चर्यजनक हो सकता है लेकिन चांद की सतह पर बेहद अस्थिर और हल्का वायुमंडल मौजूद है। चांद पर पानी भी तरल नहीं बल्कि सॉलिड फॉर्म में मौजूद है। नासा के एलएडीईई प्रोजेक्ट के मुताबिक यह हीलियम, नीयोन और ऑर्गन गैसों से बना हुआ है।


10. चांद पर आसमान हमेशा कालाः




चंद्रमा की गुरुत्वाकर्षण शक्ति कम है। किसी भी तरह का वायुमंडल का न होने का मतलब है कि सौर वायु और उल्कापिंड के आने का खतरा लगातार बना रहता है। यहां तापमान में भारी मात्रा में उतार-चढ़ाव होता रहता है और आसमान हमेशा काला दिखाई पड़ता है।


11. चांद पर धूल का गुबारः


चंद्रमा की सतह पर धूल का गुबार सूर्योदय और सूर्यास्त के समय पर मंडराता रहता है। इसका असली कारण अभी तक पता नहीं चल सका है। वैज्ञानिकों के अनुसार इसका एक कारण अणुओं का इलेक्ट्रिकली चार्ज होना हो सकता है।


12. अंतरिक्ष यात्रियों ने चांद पर छोड़ी हैं यादगार निशानियां:


अपने बैग और एक अमेरिकन झंडे के अलावा एपोलो 11 के अंतरिक्ष यात्री चांद की धरती पर कुछ यादगार निशानी भी छोड़ गए थे। इनमें हैं, शांति के प्रतीक के तौर पर एक छोटी सी सोने की पिन। दुनिया के 73 राजनेताओं का सद्भावना संदेश। एपोलो 1 मिशन, जो कभी उड़ान नहीं भर पाया, का एक टुकड़ा। एपोलो 1 मिशन के महान अंतरिक्ष यात्री जो 1967 और 1968 के विमान में मारे गए थे उनकी याद में कुछ मेडल।




13. चांद गायब तो दिन केवल छह घंटे काः


धरती से अगर चांद गायब हो जाए तो पृथ्वी पर दिन महज छह घंटे के लिए होगा। इसके अलावा चांद पर करीब 1 लाख 81 हजार 400 किलो का मानव निर्मित मलबा पड़ा हुआ है जिसमें 70 से अधिक अंतरिक्ष यान और दुर्घटनाग्रस्त कृत्रिम उपग्रह भी शमिल हैं।



14. चांद से देखने पर मोटी लगती है पृथ्वीः


चांद से देखने पर पृथ्वी, पूर्णचंद्र की तुलना में 45 से 100 गुना तक ज्यादा चमकदार नजर आती है। यह अपने मौलिक आकार की तुलना में चार गुना अधिक बड़ी भी दिखाई देती है। इसके अलावा चांद से देखने पर ग्रहण भी विपरीत लगते हैं। पृथ्वी पर अगर चंद्र ग्रहण लगा है तो चांद पर सूर्य ग्रहण होगा।
कभी चंदा मामा तो कभी चांदनी, जानिए चंद्रमा से जुड़े 14 हैरान कर देने वाले तथ्य। कभी चंदा मामा तो कभी चांदनी, जानिए चंद्रमा से जुड़े 14 हैरान कर देने वाले तथ्य। Reviewed by Menariya India on 11:05 PM Rating: 5