महिला बॉडीबिल्‍डर्स के शरीर का काला सच

महिला बॉडीबिल्‍डर्स बड़ी मात्रा में वोदका और पानी पी रही हैं। कॉम्‍पीटीशन से पहले ऐसा वे अपने शरीर को ज्‍यादा शक्‍ितशाली दिखाने के लिए कर रही हैं। मगर, ऑस्‍ट्रेलियाई डॉक्‍टरों ने चेतावनी दी है कि इस तरह से वे अपनी जिंदगी को खतरे में डाल रही हैं।


डॉक्‍टरों का कहना है कि रोजाना जंक फूड, वोदका की अधिक मात्रा और पानी की अधिक मात्रा लेकर महिलाएं खुद को बॉडीबिल्डिंग कॉम्‍पीटीशन के लिए तैयार कर रही हैं। मगर, इससे लंबे समय में उनके स्‍वास्‍थ्‍य को लेकर परेशानी हो सकती है। 

पर्थ में सर चार्ल्‍स गेर्डनर हॉस्पिटल में इमरजेंसी मेडिसिन के प्रमुख डॉक्‍टर डेविड माउंटेन ने कहा कि स्‍टेरॉइड्स और एस्‍ट्रोजन ब्‍लॉकर्स के प्रयोग से महिलाओं में किडनी व लीवर से संबंधित बीमारियां और प्रजनन संबंधी विकार हो सकते हैं।
उन्‍होंने यह भी चेतावनी दी कि चरम डायटिंग और वर्कआउट से उनके व्‍यवहार और आत्‍मसम्‍मान की भावना में असर पड़ सकता है। उन्‍होंने कहा कि इससे शरीर की छवि को लेकर समस्‍या और खराब व्‍यवहार जैसी परेशानी हो सकती है। उन्‍होंने कहा कि पूरे छद्म खेल के लिए यह मुझे लगता है यह एक समस्‍या है।
माना जा रहा है कि कॉम्‍पीटीशन से पहले शरीर को शक्‍ितशाली दिखाने के लिए फ‍िटनेस मॉडल्‍स और फीमेल बॉडीबिल्‍डर्स कई विवादास्‍पद तरीकों का इस्‍तेमाल कर रहे हैं। प्रति‍भागियों के बीच अधिक से अधिक पानी पीना एक्‍सट्रीम प्रैक्‍िटस हो गई है।
source: dailymail
महिला बॉडीबिल्‍डर्स के शरीर का काला सच महिला बॉडीबिल्‍डर्स के शरीर का काला सच Reviewed by Menariya India on 10:41 PM Rating: 5