दुनिया का पहला कैशलेस देश बनाने वाला है स्वीडन - अब सारा लेन-देन कार्ड से होगा

ज़िंदगी की रफ़्तार इस क़दर आगे बढ़ रही है कि कोई उसे रोकना नहीं चाहता. दुनिया में अधिकांश लोगों की चाहत होती है कि उनकी ज़िंदगी सरल और आसान हो. हम इसका असर अपने दैनिक जीवन में भी देख सकते हैं. आज हमारी ज़िंदगी मोबाईलमय बन गई है. कहते हैं कि जिसकी जेब में जितना ज़्यादा पैसा होता है, समाज में उसकी इज्ज़त भी उतनी ही ज़्यादा होती है.

लेकिन अब आने वाला वक़्त कैश का नहीं बल्कि कार्ड का होगा. हालांकि भारत में ऐसा होना अभी बहुत दूर की बात है लेकिन स्वीडन जल्दी ही दुनिया का पहला कैशलेस देश बनने वाला है.

1. कैशलेस देश बनने का मतलब क्या होता है?



स्वीडन जल्द ही दुनिया का कैश-फ्री देश होने वाला है. इसकी प्रमुख वजह वहां के ज़्यादातर लोगों का इलेक्ट्रॉनिक कार्ड का इस्तेमाल करना है.




2. सभी संस्थानों में कार्ड का प्रयोग हो रहा है



व्यापार, शिक्षा, सेवा औऱ बैंकिंग जैसे क्षेत्रों में लोग कैशलेस काम कर रहे हैं. इलेक्ट्रॉनिक ट्रांजैक्शन की वजह से सरकार ने ऐसा निर्णय लिया.




3. देश में सभी जगहों पर कार्ड रीडर है



कैश-फ्री देश के रूप में स्वीडन इनोवेशन से पूरी दुनिया में अपनी एक नई पहचान बना रहा है. यहां हर जगह दुकानों पर कार्ड रीडर होते हैं, लोग भी उनसे ही पेमेंट करते हैं.यहां तक कि स्ट्रीट वेंडर भी कार्ड रीडर रखते हैं, ताकि किसी भी तरह से ग्राहकों को परेशान न होना पड़े.




4. शुरू से ही टेक फॉरवर्ड देश है स्वीडन



स्वीडन की पहचान पूरे विश्व में एक टेक फॉरवर्ड देश के रूप में है. इसी देश ने ऑनलाइन म्यूजिक स्ट्रीमिंग कंपनी स्पोटिफाई और कैंडी क्रश मोबाइल गेम दिया है.




5. इस प्रयोग से कई लोग आशंकित भी हैं.



ऐसा नहीं है कि इलेक्ट्रॉनिक पेमेन्ट प्रणाली से सभी खुश हैं.उपभोक्ता संगठनों एवं आलोचकों ने इसमें प्राइवेसी का खतरा और संगठित अपराध बढ़ने की चेतावनी दी है.देश के विधि मंत्रालय के अनुसार वर्ष 2014 में इलेक्ट्रॉनिक धोखाधड़ी के अपराधों की संख्या 1.4 लाख थी, जो एक दशक पहले की तुलना में दुगुनी से ज़्यादा है.




6. इससे पर्यावरण पर अच्छा असर पड़ेगा.


सरकार के कई अधिकारियों और मंत्रियों का मानना है कि कैशलेस होने से पर्यावरण पर अच्छा असर पड़ेगा. इससे पेड़ कटने से बचेंगे.

source: Dainik Bhaskar
Tags:कैश, इंटरनेट, पैसा, स्वीडन, पर्यावरण,पहल
दुनिया का पहला कैशलेस देश बनाने वाला है स्वीडन - अब सारा लेन-देन कार्ड से होगा दुनिया का पहला कैशलेस देश बनाने वाला है स्वीडन - अब सारा लेन-देन कार्ड से होगा Reviewed by Menariya India on 11:36 PM Rating: 5