जानें 25 बड़ी बातें हिमालय की गोद में बसे भूटान के बारें में...

भूटान ऐसा देश है, जो बाहरी दुनिया के लिए अबूझ पहेली की तरह है। भूटान में विदेशियों को पहले घुसने तक नहीं दिया जाता था, पर अब भी सीमित पर्यटक ही भूटान जा पाते हैं। भूटान की सीमा तिब्बत से मिलती तो है, पर पूरी तरह से बंद है। यहां प्लास्टिक की थैलियों पर बैन है।




आज गजब दुनिया आपको भूटान के बारे में 25 खास जानकारियों से रुबरू करा रहा है, जिनके बारे में बहुत कम लोग ही जानते हैं।

1.भूटान में राजशाही है, साथ ही लोकतांत्रिक व्यवस्था भी। भूटान ऐसा देश है, जहां बिना किसी प्रतिरोध के खुद भूटान नरेश ने ही लोकतंत्र की नींव रही। यहां लोकतांत्रिक ढंग से पहला चुनाव सन 2008 में कराया गया।





2.भूटान का राजप्रमुख राजा अर्थात द्रुक ग्यालपो होता है, जो वर्तमान में जिग्मे खेसर नामग्याल वांग्चुक हैं। हालांकि यह पद वंशानुगत है लेकिन भूटान के संसद शोगडू के दो तिहाई बहुमत द्वारा हटाया जा सकता है। शोगडू में 154 सीटे होते हैं, जिसमे स्थानीय रूप से चुने गए प्रतिनिधि (105), धार्मिक प्रतिनिधि (12) और राजा द्वारा नामांकित प्रतिनिधि (37) और इन सभी का कार्यकाल तीन वर्षों का होता है।


3.राजा की कार्यकारी शक्तियाँ शोगडू के माध्यम से चुने गए मंत्रिपरिषद में निहित होती हैं। मंत्रिपरिषद के सदस्यों का चुनाव राजा करता है और इनका कार्यकाल पाँच वर्षों का होता है।


4.अंग्रेजों का जिस समय भारत पर कब्जा था, उसी समय सन् 1865 में भूटान और ब्रिटेन में सिंचुलु की संधि हुई। इस संधि के तहत भूटान ने अपने कुछ सीमाई क्षेत्र अंग्रेजों को दिए, जिसके बदले में उसे रॉयल्टी मिलती थी।





5.भूटान में अंग्रेजों के सहयोग से सन् 1907 में राजशाही की स्थापना हुई। इसके 3 साल बाद ब्रिटेन और भूटान में संधि हुई कि अंग्रेज भूटान के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप नहीं करेंगे। इसके बदले में ब्रिटेन को भूटान के अंतर्राष्ट्रीय मामलों को संभालने का जिम्मा मिला।


6.ये सहयोग 1947 तक चला और भारत की आजादी के बाद ब्रिटेन की जगह भारत ने ले ली। दो साल बाद 1949 में भारत भूटान समझौते के तहत भारत ने भूटान की वो सारी जमीन उसे लौटा दी जो अंग्रेजों के अधीन थी। इस समझौते के तहत भारत का भूटान की विदेश नीति एवं रक्षा नीति में काफी महत्वपूर्ण भूमिका दी गई।


7.यह देश मुख्यतः पहाड़ी है केवल दक्षिणी भाग में थोड़ी सी समतल भूमि है। सांस्कृतिक और धार्मिक तौर से तिब्बत से जुड़ा है, लेकिन भौगोलिक और राजनीतिक परिस्थितियों के मद्देनजर वर्तमान में यह देश भारत के करीब है।


8.संयुक्त राष्ट्र संघ ने सन 1974 में भूटान को आधिकारिक मान्यता प्रदान की। भूटान की आधिकारिक भाषा दोंगका है।





9.भूटान शब्द संस्कृत के भोटांता से निकला है। वहीं, भू-अट्टम शब्द को भी इसका मूल माना जाता है, जिसका अर्थ है 'ऊंची जमीन'। इस देश का स्थानीय नाम द्रुक यू है, जिसका अर्थ होता है 'ड्रैगन का देश'।




10.भूटानी लोग अपने घरों को 'ड्रक युल' कहते हैं, जिसका मतलब है 'बर्फीले ड्रैगन का घर'। ये घर ही उन्हें हिमालय की वादियों से निकलने वाले बर्फीले तूफान से बचाते हैं।




11.भूटान की राजधानी थिंपू है। थिंपू की आबादी 7 लाख 42 हजार 737(2012) है। थिंपू दुनिया का अकेला ऐसा शहर है, जो किसी देश की राजधानी है और वहां कोई रेड लाइट नहीं है। दरअसल, सड़कों पर रेडलाइट तो लगाई गई थी, पर पब्लिक के विरोध के बाद ट्रैफिक पुलिस को फिर से काम पर लगा दिया गया।




12.भूटान में 1960 के दशक तक कोई सड़क नहीं थी, न ही गाड़ियां, न ही टेलीफोन या डाकघर सुविधा या बिजली। भूटान में सन 1999 से पहले कोई टीवी या इंटरनेट सुविधा नहीं थी।





13.भूटान का मुख्य आर्थिक सहयोगी भारत हैं क्योंकि तिब्बत से लगने वाली भूटान की सीमा बंद है। भूटान की मुद्रा नोंग्त्रुम है, जिसका भारतीय रूपया से आसानी से विनिमय किया जा सकता है।





14.भूटान में आधिकारिक धर्म बौद्ध धर्म की महायान शाखा है, जिसका अनुपालन देश की लगभग तीन चौथाई जनता करती है। भूटान के हिंदू धर्मी नेपाली मूल के लोग है, जिन्हे ल्होत्साम्पा भी कहा जाता है।


15.भूटान में प्रौढ़ों की साक्षरता दर 54.3 फीसदी है, तो 76.2 युवा साक्षर हैं।





16.भूटान में सन 1974 तक विदेशियों के घुसने पर पाबंदी थी। यहां 1974 में पहले विदेशी पर्यटक को घूमने की आजादी मिली। आज भी काफी हद तक यहां विदेशियों का प्रवेश नियंत्रित है।


17.भूटान में 5999 मीटर से अधिक ऊंची चोटियों पर चढ़ने की इजाजत नहीं है। यहां का सर्वाधिक ऊंचा पहाड़ गंगखर प्यूनसम है, जिसपर आजतक कोई भी नहीं चढ़ पाया। जोकि सरकारी नीति की वजह से है।




18.भूटान दुनिया का इकलौता ऐसा देश है, जो कार्बन उत्सर्जन को रोकने में कामयाब रहा है। भूटान का 72 फीसदी हिस्सा जंगल के रूप में है। यहां किसी लुप्तप्राय प्रजाति के जीव को मारने पर उम्रकैद की सजा तक का प्रावधान है।





19.विश्व के सबसे छोटी अर्थव्यवस्थाओं में से एक भूटान का आर्थिक ढांचा मुख्य रूप से कृषि और वन क्षेत्रों पर निर्भर है। भूटान अपनी बिजली भारत को बेचता है।




20.भूटान में जीडीपी के हिसाब से अमीरी नहीं मापी जाती, यहां 'हेल्थ' ही असली धन है। जो विकास, पर्यावरण की रक्षा, बढ़िया प्रशासन और सामाजिक सुरक्षा के तौर पर ग्रॉस नेशनल हैपिनेस के तौर पर मापा जाता है।





21.भूटान में प्लास्टिक की थैलियों पर बैन है। यहां सन 1999 के बाद से ही प्लास्टिक की थैलियों के इस्तेमाल पर पूरी तरह से रोक है।




22.भूटान दुनिया का अकेला ऐसा देश है, जहां तंबाकू पर पूरी तरह से बैन है। ये रोक सन 2004 से है।

23.यहां का राष्ट्रीय पशु ताकिन है। जो बकरी जैसी सींग वाला हिरण होता है।




24.भूटान में तीरांदाजी और डार्ट्स दो राष्ट्रीय खेल हैं।


25-interesting-facts-about-bhutan


25.भूटान में सभी व्यक्ति एक ही अपना जन्मदिवस मनाते हैं वो भी नए साल पर। इस तरह से नए साल पर सभी लोगों की उम्र एक साथ बढ़ जाती है। ये आधिकारिक है।

जानें 25 बड़ी बातें हिमालय की गोद में बसे भूटान के बारें में... जानें 25 बड़ी बातें हिमालय की गोद में बसे भूटान के बारें में... Reviewed by Menariya India on 12:19 PM Rating: 5