निदा फ़ाज़ली - बेनाम-सा ये दर्द ठहर क्यों नहीं जाता...


बेनाम-सा ये दर्द ठहर क्यों नहीं जाता


बेनाम-सा ये दर्द ठहर क्यों नहीं जाता
जो बीत गया है वो गुज़र क्यों नहीं जाता

सब कुछ तो है क्या ढूँढ़ती रहती हैं निगाहें
क्या बात है मैं वक़्त पे घर क्यों नहीं जाता

वो एक ही चेहरा तो नहीं सारे जहाँ में
जो दूर है वो दिल से उतर क्यों नहीं जाता

मैं अपनी ही उलझी हुई राहों का तमाशा
जाते हैं जिधर सब, मैं उधर क्यों नहीं जाता

वो ख़्वाब जो बरसों से न चेहरा, न बदन है
वो ख़्वाब हवाओं में बिखर क्यों नहीं जाता 

निदा फ़ाज़ली

Title : Nida Fazali- Benaam-sa ye dard thehar kyon nahi jata 
Famous, Shayari, Sher, Ghazal, Poetry, Poem, Kavita, Lyrics, Meaning in Hindi, Meaning of Urdu Words, प्रसिद्ध, शायरी, शेर, ग़ज़ल, पोयम, कविता, लिरिक्स
निदा फ़ाज़ली - बेनाम-सा ये दर्द ठहर क्यों नहीं जाता... निदा फ़ाज़ली - बेनाम-सा ये दर्द ठहर क्यों नहीं जाता... Reviewed by Menariya India on 11:58 PM Rating: 5