क्रिकेट की ये 10 गजब बातें जो बन गई यादगार - हर क्रिकेट प्रेमी की चाहिए जाननी!

आपने क्रिकेट के मैदान पर कई रिकॉर्ड टूटते और बनते देखें होंगे। साथ ही कई ऐसे इंसिडेंट भी देखें होंगे जो कि हमेशा के लिए यादगार बन गए।



आज हम आपको क्रिकेट के जगत के कई ऐसे अजब इत्तेफाकों और कई रिकॉर्ड के बारे में बता रहे हैं जिनसे आप अनजान है। आगे देखें गजब क्रिकेट के अजीब इत्तेफाक।



1. सचिन के बल्ले से अफरीदी का रिकॉर्ड-



विश्व का सबसे तेज शतक बनाने वाले खिलाड़ी में शाहिद अफरीदी का नाम तो हर कोई जानता है, लेकिन आपको जानकर ये हैरानी होगी की सचिन तेंदुलकर की बदौलत ही अफरीदी ये रिकॉर्ड बना पाए थे। 1996 में वेस्टइंडीज के खिलाफ अफरीदी के पास बल्लेबाजी के लिए सही बल्ला नहीं था। तब वकार यूनुस ने अफरीदी को सचिन तेंदुलकर का बल्ला दिया। जो बल्ला सचिन ने वकार को तोहफे के तौर पर दिया था। सचिन के बल्ले से श्रीलंका के खिलाफ 37 गेंद पर अफरीदी ने 11 छक्के और 6 चौके की मदद से वनडे क्रिकेट का सबसे तेज शतक जड़ा।


2. पाकिस्तान की टीम में सचिन तेंदुलकर-



शायद की किसी ने सोचा होगा कि क्रिकेट के भगवान सचिन तेंदुलकर पाकिस्तान की तरफ से भारत के खिलाफ मुकाबला खेला होगा। हैं ना अजीब इत्तेफाक। 1987 वर्ल्ड कप कप के दौरान एक अभ्यास मैच के दौरान तेंदुलकर ने पाकिस्तान की तरफ से फिल्डिंग की थी और वो भी भारत के लिए अपना पहला टेस्ट मैच खेलने से पहले।


3. इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच क्रिकेट इतिहास का पहला अंतरराष्ट्रीय टेस्ट मैच -



1877 में मार्च के महीने में जब मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड पर इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच क्रिकेट इतिहास का पहला अंतरराष्ट्रीय टेस्ट मैच खेला गया और उस मुकाबले में ऑस्ट्रेलिया ने 45 रनों से जीत दर्ज की। पहले टेस्ट की याद के जश्न में ठीक सौ साल बाद यानी मार्च, 1977 में उसी मैदान पर उन्हीं दोनों टीमों के बीच मैच टेस्ट मैच खेला गया और यकीन मानिए ये मैच भी ऑस्ट्रेलिया ने जीता और जीत का अंतर भी 100 साल पुराने वाले मैच का यानी जितना यानी 45 रन।


4. विनोद कांबली से पीछे सचिन-



यूं तो सचिन तेंदुलकर के बल्ले से ना जाने कितने रिकॉर्ड बने हैं, लेकिन तमाम रिकॉर्ड के बाद सचिन अपने बचपन के दोस्त विनोद कांबली को एक मामले में पीछे छोड़ नहीं पाए। 17 टेस्ट मैच में कांबली का औसत 54.20 का रहा था, लेकिन सचिन का औसत 53.78 का ही रहा।



5. पहली बार मैदान पर जब मिला किस-



मैदान पर किस, क्रिकेट में तमाम बदलाव आने के बावजूद आपने ये नहीं सुना होगा कि किसी फैन ने किसी क्रिकेटर को खेल के दौरान चूम लिया हो, लेकिन आज से 55 साल पहले अब्बास अली बेग पहले भारतीय खिलाड़ी बने जब एक महिला फैन ने उन्हें किस किया था। ये बात 1960 में ब्रेबॉर्न स्टेडियम में खेले गए एक टेस्ट मैच के दौरान हुई जब अली बेग ने जब अर्धशतक पूरा किया।


6. बिना रुके इस महान ऑलराउंडर ने लगातार 153 मैच खेल डाले-



क्रिकेट में लंबे करियर के बाद बात करते हैं एक ऐसे खिलाड़ी की जिसने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में लगातार सबसे ज्यादा टेस्ट मैच खेले हैं। एलन बॉर्डर, ऑस्ट्रेलिया के महानतम खिलाड़ियों में से एक, इस खिलाड़ी ने रिकॉर्ड लगातार 153 टेस्ट मैच खेले, इस बीच न उन्हें एक बार भी चोट लगी और न ही इन्हें टीम से बाहर बैठाया गया। बिना थके, बिना रुके इस महान ऑलराउंडर ने लगातार 153 मैच खेल डाले।


7. टेस्ट मैच में 5 दिन बल्लेबाजी-



आधुनिक समय में कई टीमें टेस्ट मैच के दौरान पूरे 5 दिन भी मैदान पर टिक नहीं पाती है, लेकिन कुछ दशक पहले 2 बल्लेबाजों ने टेस्ट के हर दिन बल्लेबाजी करने का भी रिकॉर्ड दिलचस्प रिकॉर्ड बनाया है। एमएल जयसिम्हा और रवि शास्त्री सिर्फ दो ऐसे खिलाड़ी रहे हैं जिनके नाम टेस्ट मैच के हर 5 दिन बल्लेबाजी करने का रिकॉर्ड है।


8. टीम इंडिया का अजेय रिकॉर्ड-



भले ही ऑस्ट्रेलिया ने रिकॉर्ड 5 बार की विश्व विजेता हो, लेकिन एक रिकॉर्ड टीम इंडिया का ऐसा है जो विश्व क्रिकेट में शायद ही कोई भविष्य में तोड़ पाएगा। भारतीय टीम विश्व की इकलौती ऐसी टीम है जिसने 60 ओवर, 50 ओवर और 20 ओवर वाले आईसीसी वर्ल्ड कप जीत हो, 1983 में भारत ने जब कपिल देव की अगुवाई में पहली बार वर्ल्ड कप जीता तब 60 ओवर के मैच हुआ करते थे। 2011में 50 ओवर का वर्ल्ड कप जीता। वहीं 2007 में 20 ओवर का यानी टी-20 वर्ल्ड जीता।


9.एक ही दिनों में कुल 4 पारियां खेली -



1 ही दिन में देखने को मिले यानी एक ही दिनों में कुल 4 पारियां खेली जाएं। हुआ है, साल 2000 में इंग्लैंड और वेस्टइंडीज के बीच खेले गए लॉर्ड्स टेस्ट के दूसरे दिन वेस्टइंडीज की टीम ने 9 विकेट पर 267 रनों से आगे खेलना शुरू किया जिसके बाद वो ऑलआउट हुए, उसके बाद इंग्लैंड की टीम सिर्फ 134 पर आउट हो गई। इसके बाद वेस्टइंडीज को इंग्लैंड ने सिर्फ 54 रनों पर ऑलआउट कर दिया और दिन के आखिरी पलों में वो चौथी पारी की बल्लेबाजी करने भी उतर गए। ऐसा वाकया 11 साल बाद साउथ अफ्रीका के केपटाउन में भी हुआ।



10. रॉबिन सिंह दो-दो लेकिन टेस्ट 1-1 भारतीय टेस्ट क्रिकेट में रॉबिन सिंह नाम के 2 खिलाडियों ने डेब्यू किया लेकिन अजीब इत्तेफाक ये है कि वो दूसरा टेस्ट मैच नहीं खेल पाए। वनडे स्पेशलिस्ट रॉबिन सिंह 1998 में अपना पहला टेस्ट मैच जिंबाब्वे के खिलाफ खेला जबकि रॉबिन सिंह जूनियर 1999 में न्यूजीलैंड के खिलाफ खेलने के बाद दोबारा कभी मौका नहीं मिला।



source : ibnlive
क्रिकेट की ये 10 गजब बातें जो बन गई यादगार - हर क्रिकेट प्रेमी की चाहिए जाननी! क्रिकेट की ये 10 गजब बातें जो बन गई यादगार - हर क्रिकेट प्रेमी की चाहिए जाननी! Reviewed by Menariya India on 1:17 AM Rating: 5