जानिए नागा साधुओं का रहस्य - ये कौन है कहां से आते हैं, कहां चले जाते हैं...?

महाकुंभ, अर्धकुंभ या फिर सिंहस्थ कुंभ में आपने नागा साधुओं को जरूर देखा होगा। कौन हैं ये नागा साधु, कहां से आते हैं और कुंभ खत्म होते ही कहां चले जाते हैं? क्या ऐसे सवाल आपके मन में आए हैं? अगर आपका जवाब हां है,तो आइए हम आपको बताते हैं हिंदू धर्म के इस बड़े रहस्य का पूरा सच 4 आर्टिकल के द्वारा :




1. जानिए नागा साधुओं का रहस्य : एक परिचय


महाकुंभ, अर्धकुंभ या फिर सिंहस्थ कुंभ में आपने नागा साधुओं को जरूर देखा होगा। कौन हैं ये नागा साधु, कहां से आते हैं और कुंभ खत्म होते ही कहां चले जाते हैं? क्या ऐसे सवाल आपके मन में आए हैं? अगर आपका जवाब हां है,तो आइए हम आपको बताते हैं हिंदू धर्म के इस बड़े रहस्य का पूरा सच..... पूरा पढ़े



2. जानिए नागा साधुओं का रहस्य - नागा साधु बनने की प्रक्रिया


नागा साधु बनने के लिए इतनी कठिन परीक्षाओं से गुजरना पड़ता है कि शायद कोई आम आदमी इसे पार ही नहीं कर पाए। नागाओं को आम दुनिया से अलग और विशेष बनना होता है। इस प्रक्रिया में सालों लग जाते हैं। जानिए कौन सी प्रक्रियाओं से एक नागा को गुजरना होता है.. .. पूरा पढ़े


3. जानिए नागा साधुओं का रहस्य - नाग साधुओं के नियम


वर्त्तमान में भारत में नागा साधुओं के कई प्रमुख अखाड़े है। वैसे तो हर अखाड़े में दीक्षा के कुछ अपने नियम होते हैं, लेकिन कुछ कायदे ऐसे भी होते हैं, जो सभी दशनामी अखाड़ों में एक जैसे होते हैं..... पूरा पढ़े


4. जानिए नागा साधुओं का रहस्य - नागाओं का श्रृंगार


श्रृंगार सिर्फ महिलाओं को ही प्रिय नहीं होता, नागाओं को भी सजना-संवरना अच्छा लगता है। फर्क सिर्फ इतना है कि नागाओं की श्रृंगार सामग्री, महिलाओं के सौंदर्य प्रसाधनों से बिलकुल अलग होती है। उन्हें भी अपने लुक और अपनी स्टाइल की उतनी ही फिक्र होती है जितनी आम आदमी को.. पूरा पढ़े
Source : ibn


1. जानिए नागा साधुओं का रहस्य : एक परिचय
2. जानिए नागा साधुओं का रहस्य - नागा साधु बनने की प्रक्रिया
3. जानिए नागा साधुओं का रहस्य - नाग साधुओं के नियम
4. जानिए नागा साधुओं का रहस्य - नागाओं का श्रृंगार

जानिए नागा साधुओं का रहस्य - ये कौन है कहां से आते हैं, कहां चले जाते हैं...? जानिए नागा साधुओं का रहस्य - ये कौन है कहां से आते हैं, कहां चले जाते हैं...? Reviewed by Menariya India on 10:33 PM Rating: 5