कृष्णा से नैना (लड़के से लड़की बनने का फैसला - एक परिवर्तन जिस ने बहुतों को प्रेरित किया

दिल्ली के 16 साल के कृष्णा सिंह ने ने खुद को लड़की बनाने की ठान ली और ये कर के भी दिखाया. कृष्णा की मानें तो उन्हें लड़का बने रहने में तकलीफ़ हो रही थी. ऐसे में ज़्यागातर लोग चुप रहते हैं और डरते हैं कि अगर ये बात समाज में फैल गई तो लोग क्या कहेंगे. लेकिन कृष्णा ने समाज की नहीं बल्कि खुद की परवाह की और वो ही किया जो उनके दिल ने उनसे कहा.




इस काम में उनका साथ ख़ुद उनकी मां ने दिया. जब उन्हें इस बात का पता चला तो वो डर गईं थीं. उन्होंने इस बारे में कई डॉक्टर्स से बात की, इसे बीमारी मान कर इसका इलाज करवाना चाहा.

उनकी मां ने एक इंटरव्यू में कहा कि 'पहले मुझे लगा मेरा बेटा गे है, लेकिन मेरा सबसे बड़ा डर था इसका पूरी तरह से लड़की बन जाना. मैने इसे खेलन के लिए लड़को के खिलौने दिए लेकिन इसे गुडियों से खेलना पसंद था'.



नैना Vasant Valley स्कूल की छात्रा हैं. स्कूल के दोस्तों ने भी नैना के इस कदम पर उनका पूरा साथ दिया है, इतना ही नहीं, स्कूल की टीचर ने भी नैना का सपोर्ट किया.


नैना इतने पर ही नहीं रुकी. उन्होंने अपने जैसे लोगों को गाईड करने के लिए एक Youtube Channel बनाया है, जिसके ज़रिए वो अपने अनुभव और विचार लोगों से शेयर करती हैं.



Video Source: Naina Singh (YouTube)
From: ndtv
कृष्णा से नैना (लड़के से लड़की बनने का फैसला - एक परिवर्तन जिस ने बहुतों को प्रेरित किया कृष्णा से नैना (लड़के से लड़की बनने का फैसला - एक परिवर्तन जिस ने  बहुतों को प्रेरित किया Reviewed by Menariya India on 8:46 AM Rating: 5