म्यांमार की ये 17 दिलचस्प बातें जानकर चौंक जाएंगे आप!

1949 में आई फिल्म पतंगा में शमशाद बेगम का गाना 'मेरे पिया गए रंगून' आज भी हिंदुस्तानियों की जुबान पर है, यह अलग बात है कि वास्तविक गाने से ज्यादा युवा पीढ़ी को इसका रिमिक्स ज्यादा याद होगा। लेकिन एक जमाना वो भी था जब भारतवासी विदेश के नाम पर सिर्फ रंगून ही जानते थे...




सदियों पहले इसकी शुरुआत उन गिरमिटिया मजदूरों से हुई थी जिन्हें अंग्रेजी सरकार ने वहां भेजा था... लेकिन आज रंगून तो छोड़िए, इसके देश म्यांमार के किसी भी शहर के बारे में देश के लोगों को शायद ही कुछ पता हो। आइए जानते हैं, ऐसे देश के बारे में रोचक बातें, जहां हिंदुस्तान का भी इतिहास बसता है।


1. यह वही बर्मा है जहां भारतीय स्वाधीनता की पहली संगठित लड़ाई, 1857 के संग्राम के अगुआ मुगल बादशाह बहादुरशाह ज़फर को कैद कर रखा गया और उन्हें यहीं दफनाया भी गया। बरसों बाद बाल गंगाधर तिलक को उसी बर्मा में कैद रखा गया। रंगून और मांडले की जेलें अनगिनत स्वतंत्रता सेनानियों के बलिदानों की आज भी गवाही देती हैं।




2. बर्मी भाषा में 'र' का उच्चारण य किया जाता है। अतः सही उच्चारण म्यन्मा है। इसका पुराना अंग्रेजी नाम बर्मा था जो यहाँ के सर्वाधिक बहुल बमा जाति के नाम पर रखा गया था। इसकी राजधानी नाएप्यीडॉ और सबसे बड़ा शहर देश की पूर्व राजधानी यांगून है, जिसका पूर्व नाम रंगून था।


3. म्यांमार (बर्मा) और यंगून (यंगून)... 1824–1948 ब्रिटिश शासन के अंतर्गत इसे 'बर्मा' नाम दिया गया। 1948 में आजादी के बाद 1962 में यहां मिलिट्री रूल लागू हो गया। इसी सैनिक शासन के अंतर्गत 1989 में बर्मा नाम बदलकर म्यांमार कर दिया गया जबकि रंगून को यंगून कर दिया गया...




4. साल 2010 में, देश के सैनिक शासन ने आधी सदी के शासन के बाद सुधारों की तरफ कदम बढ़ाए और इसके साथ ही चर्चा में गूंजा आंग सान सू ची की नाम। नोबेल पुरस्कार विजेता सू ची को 15 साल तक घर में नजरबंद रखा गया था। साल 2012 के उपचुनाव में सू ची की पार्टी ने 45 में से 43 सीटें हासिल की और वह खुद संसद सदस्य बनीं।




5. वर्ष 2011 में म्यांमार में सैन्य शासन की समाप्ति के बाद बौद्ध और मुस्लिम धर्म के अनुनायियों के बीच व्यापक तौर पर दंगे हुए जिसमें करीब 200 लोग मारे गए। इस वजह से एक लाख 40 हजार से भी अधिक रोहिंग्या मुसलमानों को देश छोड़ने पर मजबूर होना पड़ा।



6. रोहिंग्या को इंडो आर्य प्रजाति का माना जाता है। ये म्यांमार के रकेन प्रांत के मूल निवासी हैं। ये रोहिंग्या भाषा बोलते हैं। कुछ इतिहासकारों का दावा है कि ये मुस्लिम हैं और म्यांमार में ब्रिटिश शासन के समय बंगाल से आए थे। कुछ लोग 1948 में म्यांमार की आजादी के बाद और कुछ 1971 में बांग्लादेश युद्ध के बाद आए। म्यांमार में करीब 11 लाख रोहिंग्या मुसलमान हैं।



7. मोदी सरकार ने कुछ महीने पहले भारतीय सुरक्षा बलों को सीमापार स्थित कथित चरमपंथी शिविरों पर हमले की इजाजत देकर एनएससीएन (खापलांग) और केवाईसीएल के गुरिल्ला लड़ाकों को उनकी कार्रवाई का जवाब दिया। इस कार्रवाई से म्यांमार का नाम भारतीय मीडिया में छा गया।




8. म्यांमार दक्षिण पूर्व एशिया का सबसे बड़ा देश है, जिसका कुल क्षेत्रफ़ल ६,७८,५०० वर्ग किलोमीटर है। म्यांमार विश्व का चॉलीसवां सबसे बड़ा देश है। इसकी उत्तर पश्चिमी सीमाएं भारत के मिज़ोरम, नागालैंड, मणिपुर, अरुणाचल प्रदेश और बांग्लादेश के चटगांव प्रांत से मिलती है।



9. म्यांमार में मापने के लिए मीट्रिक सिस्टम इस्तेमाल नहीं किया जाता है। दुनिया के सिर्फ तीन देशों ने इस प्रक्रिया को नहीं अपनाया है, जिसमें म्यांमार, संयुक्त राष्ट्र और लाइबेरिया है।




10. थाई-बर्मी सीमा पर खास अल्पसंख्यक जनजाति कायान के लोगों में महिलाओं की लंबी गर्दन को सुंदरता की निशानी माना जाता है। इस बात को यहां की महिलाएं भी खास महत्व देती हैं। गर्दन को लंबा और आकर्षक बनाने के लिए पांच साल की उम्र से ही गर्दन को बढ़ाने की कवायद शुरू हो जाती है। गर्दन में पीतल के छल्ले पहने जाते हैं।




11. 2012 में न्यूयॉर्क टाइम्स ने पृथ्वी की ऐसी जगहों की लिस्ट जारी की जिन्हें किसी भी कीमत पर घूम लेना चाहिए। इस लिस्ट में म्यांमार को तीसरे नंबर पर रखा गया।




12. दुनिया की सबसे बड़ी किताब म्यांमार में ही है। हर पेज के पन्ने स्टोन के हैं। पवित्र बौद्ध शब्दों वाली इस किताब के 1460 पन्ने हैं। हर पेज एक पॉलिश्ड मार्बल है। इसकी लंबाई 1.5 मीटर, चौड़ाई 1 मीटर और मोटाई 12.7 सेंटीमीटर है।




13. म्यांमार में खाने की कीमत बेहद कम है। आप 10-15 रुपए में किसी भी स्नैक बार या कैफे में खाना खा सकते हैं। अगर और बेहतर जगह खाने का मन है तो 60-70 रुपए में यंगून या मांडले में खा सकते हैं।




14. मिंगन बेलः वैसे तो यह इलाका काफी छोटा है लेकिन इसकी प्रसिद्धि इसलिए है कि यहाँ एक धार्मिक स्थल पर दुनिया का सबसे बड़ा घंटा है।



15 . म्यांमार (बर्मा) के एक प्राचीन शहर बैगान में 900 साल पहले 10 हजार से अधिक भव्य मंदिर बनाए गए थे। पैगान शासकों ने बैगान में 10,000 से अधिक बौद्ध मंदिरों का निर्माण करवाया। मंदिरों का निर्माण 11 वीं शताब्दी से 13 शताब्दी के बीच करवाया गया था।




16 म्यांमार का मुख्य धर्म बौद्ध ही है। यहां बौद्ध धर्म को मानने वालों की संख्या कुल आबादी का 89 पर्सेंट है। इसके बाद मुस्लिम 4 पर्सेंट, ईसाई 4 पर्सेंट हैं।



17. आप कुछ ही दिन में सड़क से म्यांमार जा सकेंगे। भारत म्यामार और थाईलैंड को जोड़ते हुए 3200 किमी का 4 लेन हाइवे निर्माणाधीन है। इस हाइवे का रूट गुवाहाटी से शुरू होकर मांडले होते हुए यंगून जाएगा। इसके बाद यह थाईलैंड के 'मे सोट' को जोड़ेगा। गुवाहाटी से मांडले के बीच बनने वाला पहला चरण 2016 तक पूरा होगा।
म्यांमार की ये 17 दिलचस्प बातें जानकर चौंक जाएंगे आप! म्यांमार की ये 17 दिलचस्प बातें जानकर चौंक जाएंगे आप! Reviewed by Menariya India on 12:16 AM Rating: 5