5 स्टार जेल - जंहा कैदियों को दी जाती है सभी आधुनिक सुविधाएँ !

फाइव स्टार जेल - जस्टिस सेंटर लियोबेन - ऑस्ट्रिया (Five Star Jail - Justice Center Leoben - Austria)


आप सभी ने फाइव स्टार होटल, फाइव स्टार स्कूल, फाइव स्टार हॉस्पिटल के बारे में पढ़ा और सुना होगा पर क्या आपने कभी फाइव स्टार जेल के बारे में पढ़ा और सुना है ? शायद नहीं, तो चलिए आज हम आपको बताते है दुनिया की एक मात्र फाइव स्टार जेल के बारे में यह है ऑस्ट्रिया में स्तिथ 'जस्टिस सेंटर लियोबेन' . मशहूर आर्किटेक्ट जोसेफ होहेंसिन्न द्वारा डिज़ाइन यह जेल, ऑस्ट्रिया के पहाड़ी इलाके लियोबेन में स्तिथ है इसे 2005 में शुरू किया गया था।





इस फाइव स्टार जेल में 205 कैदियों के रहने की अति उत्तम व्यवस्था है। इस जेल में कैदियों को वो सभी सुविधाएँ दी जाती है जो आधुनिक समय की मांग है। जस्टिस सेंटर लियोबेन में स्पा, जीम, कई तरह के इंडोर गेम तथा पर्सनल हॉबी की सुविधाएं उपलब्ध है।







इस जेल में कैदी 13 तक की संख्या में एक जगह इकठ्ठे हो सकते है और अपनी सेल एक दूसरे के साथ शेयर कर सकते है। इस जेल की सेल भी आम जेलों से हटकर है। प्रत्येक सेल में एक पर्सनल बाथरूम, एक किचन तथा एक लिविंग रूम होता है जिसमे टी वी की सुविधा भी उपलब्ध रहती है। इसके अलावा रूम में एक फुल साइज विंडो होती है जो की बाहर बॉलकनी में खुलती है जिससे की आप बाहर का नज़ारा देख सके।





जेल में हर सेक्सन के बाहर भी घूमने के लिए खुली जगह होती है जहाँ कैदी सुबह शाम ताज़ी हवा का आन्नद ले सकते है।





इस जेल के अगले हिस्से में कोर्ट से सम्बंधित काम होता है इसलिए यह हिस्सा आम जनता के लिए खुला है। लोग इस हिस्से में जाकर अंदर की जेल का नज़ारा आराम से देख सकते है।





इस जेल परिसर में दो शिलालेख भी है जिसमे से प्रथम शिलालेख में उत्कीर्ण शब्द है " सभी मानव सवतंत्र पैदा होता है और वे सब बराबर की गरिमा और जीने के अधिकारी होते है।" यह शब्द अमेरिका की स्वतंत्रता के घोषणा पत्र से लिया गया है। तथा दूसरे शिलालेख में उत्कीर्ण शब्द है "पत्येक व्यक्ति जो अपनी स्वतंत्रता से वंचित है, उसके साथ भी जन्मजात गौरव और सम्मान के साथ मानवीय व्यवहार करना चाहिए। "

देखे तस्वीरें :








Article From : izismile
5 स्टार जेल - जंहा कैदियों को दी जाती है सभी आधुनिक सुविधाएँ ! 5 स्टार जेल - जंहा कैदियों को दी जाती है सभी आधुनिक सुविधाएँ ! Reviewed by Menariya India on 11:13 PM Rating: 5