चाहे हमारे सारे फ्रेंड कितने भी कमीने क्यों न हों, मगर हर एक फ्रेंड ज़रूरी भी तो होता है.

स्कूल, कॉलेज से लेकर ऑफिस में हमें हर जगह लोगों का जमावड़ा मिलता है. कई बार वहां मिले लोगों से हमारी अच्छी छनती है तो कई बार वे हमारे लिए जी का जंजाल बन जाते हैं. और इनके बगैर हमारी लाइफ़ में फन भी तो नहीं आता. चाहे हमारे सारे फ्रेंड कितने भी कमीने क्यों न हों, मगर हर एक फ्रेंड ज़रूरी भी तो होता है.
चाहे हमारे सारे फ्रेंड कितने भी कमीने क्यों न हों, मगर हर एक फ्रेंड ज़रूरी भी तो होता है. चाहे हमारे सारे फ्रेंड कितने भी कमीने क्यों न हों, मगर हर एक फ्रेंड ज़रूरी भी तो होता है. Reviewed by Menariya India on 2:47 PM Rating: 5