अगर फिल्म शोले इकीसवीं सदी में बनी होती...

शोले भारत की सफलतम फिल्मों में से एक है। इस फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर पैसों की बरसात कर दी थी। गली-गली फिल्म के संवाद गूंजे। पक्के दोस्तों को जय-वीरू कहा जाने लगा तो बक-बक करने वाली लड़कियों को बसंती की उपमा दी जाने लगी। मांओं ने अपने छोटे बच्चों को गब्बर का डर दिखाकर सुलाया। भारतीय जनमानस पर इस फिल्म का गहरा असर हुआ।



इस महीने ‘‘शोले’’ की रिलीज के 40 साल पूरे हो रहे हैं यह फिल्म 15 अगस्त, 1975 को रिलीज हुई थी. बच्चन ने फिल्म में एक अपराधी जय का किरदार निभाया था और धर्मेंद्र वीरू की भूमिका में नजर आए थे।

1. 'महबूबा-महबूबा' एक पार्टी गीत होता जिसे यो यो हनी सिंह लिखते और खासतौर पर फोकस होता दूसरी बार बोले गये शब्द महबूबा पर।



2. बसंती का रोल निभातीं बेबाक कंगना रानाउत और धन्नो नाम होता उनकी मोटर बाइक का। जाहिर है वो बुलेट ही होती, जिसे वो चमड़े के चार एसेसरीज के साथ चलातीं... एकदम स्टीरियोटाइप।




3. और फिल्म में कहीं-कहीं बसंती आपको धन्नो की पावर के बारे में बताती, वो कितना माइलेज देती है, कितनी जल्दी वो 0 से 60 की स्पीड पकड़ती है और ये भी कि बुलेट का होना मानवता के लिए क्यों सबसे अच्छा है।




4. ठाकुर (जिसके दोनों हाथ अब कट चुके हैं) पर ग्रैंड मस्ती फेम के इंद्र कुमार द्वारा लिखे गए सेक्सी जोक्स (अरे अब तुम *&%$#@^ कैसे...) की बौछार होती और इसे रितेश देशमुख पर फिल्माया जाता।





5. दोस्ती के नाम पर फिल्म को बेचा जाता, जिसमें जय और वीरू 'स्वयं की खोज' के लिए स्पेन की यात्र करते। और 'होली के दिन...' गीत असल में वहां के टॉमैटीना फेस्टीवल पर फिल्माया जाता।




6. कोई बसंती से शादी नहीं करना चाहता क्योंकि वो बहुत हुड़दंगी और आजाद ख्यालों की है। बल्कि दोनों ही हीरो को जया भादुरी से प्यार हो जाता - साड़ी और संस्कार की वजह से।




7. हम शायद इस लाइन को पॉपुलर नहीं कर पाते 'बसंती इन कुत्तों के सामने मत नाचना' क्योंकि सेंसर बोर्ड 'कुत्तों' और 'बसंती' और शाय़द 'के' 'सामने' 'मत' 'नाचना' जैसे शब्दों पर भी पाबंदी लगा देता।




8. धर्मेंद्र के चक्की पीसिंग और टंकी पर चढ़कर आत्महत्या करने की धमकी तथा जेल में सजा काटने वाले सीन के ऊपर कई संपादकीय और आर्टिकल लिख दिए जाते।





9. कम से कम 6 धार्मिक संगठन तो गब्बर के होली जैसे धार्मिक उत्सव में उपद्रव और हिंसा फैलाने से नाराज हो जाते। जेलरों का मजाक उड़ाने की वजह से असरानी के खिलाफ मानहानी का मुकदमा चल रहा होता। और '#आई स्टैण्ड विद रमेश सिप्पी' हैशटैग हो रहे होते।

10. अमिताभ बच्चन, धर्मेंद्र, अमजद खान और हेमा मालिनी हर मॉल और कॉलेज में अपनी फिल्म का प्रमोशन करते, फिल्मों के पोस्टर ट्वीट करते, इंस्टाग्राम पर '#शूटिंग शोले' सेल्फी और 'कॉमेडी नाइट्स विद कपिल' में कपिल को झेलते दिखाई देते। और हेमा मालिनी सही समय पर प्रेस कॉफ्रेंस कर रही होतीं, जिसमें वो एक पत्रकार पर 'सेक्सिस्ट' कॉमेंट के लिए चिल्ला रही होतीं (तकनीकी रूप यह कंगना कर रही होतीं, लेकिन...)





अगर फिल्म शोले इकीसवीं सदी में बनी होती... अगर फिल्म शोले इकीसवीं सदी में बनी होती... Reviewed by Menariya India on 9:49 PM Rating: 5